Home अफ्रीका नाइजीरिया पुलिस ने हज़ारों लोगों को जबरन घरों से बाहर निकाला

नाइजीरिया पुलिस ने हज़ारों लोगों को जबरन घरों से बाहर निकाला

नाइजीरिया के ज़ागा क्षेत्र से पुलिस ने हजारों लोगों को घरों ले निकालने के लिए फायरिंग और आंसू गैस का इस्तेमाल किया है ताकि उनके घरों को ध्वस्त कर सके जो अदालत के आदेश का उल्लंघन कर रहे है।

शुक्रवार को लागोस के अतोदो बामह के 4700 लोगों के घरों को ध्वस्त कर दिया गया, और वहां के लोग मार दिए जाने के डर से तीन दिन से नावों में रह रहे हैं।

एमनेस्टी इंटरनेशनल और लागोस के एक मानवाधिकार संगठन (JEI) के अनुसार यह हमला अदालत के अदेश के विरुद्ध किया गया है, अदालत ने घर न गिराए जाने का आदेश दिया था।

अतोदो बामह को लोगों का कहना है कि उनके घर बिना किसी पूर्व सूचना के गिराए गए हैं।

इस क्षेत्र के एक नागरिक पेल कूनू ने अलजज़ीरा को दिए साक्षात्कार में कहाः “हम परेशान थे, हमें नहीं पता वह किधर से घुस आए, उन्होंने सब नष्ट कर दिया”

लोगों का कहना है कि पुलिस ने आँसू गैस के लोगों के अलावा लोगों को तितर बितर करने के लिए गोलियां भी चलाईं, इस हमले में एक व्यक्ति की मौत हो गई और एक दूसरे व्यक्ति गंभीर रूप से घायल हो गया है।

इस घटना के बारे में जानकारी प्राप्त करने के लिए किसी भी अधिकारी से संपर्क नहों हो सका है।

पिछले साल नवंबर में इस क्षेत्र के लगभग 30000 लोगों को क्षेत्र से निकाल दिया गया था, लेकिन उसके बाद अदालत ने जनवरी में घरों को गिराने और क्षेत्र को ख़ाली कराने को रोके जाने का आदेश दिया था। अदालत के इस आदेश के बाद अतोदो हामा के लोगों ने अपने घरों की दोबारा मरम्मत की।

इस क्षेत्र के एक मछवारे ने बतायाः “हमारे पास जाने के लिए कोई और जगह नहीं है, इस क्षेत्र के लोग मछवारे हैं और सैकड़ों सालों से यहां रह रहे हैं”

नवंबर 2016 में घरों को गिराए जाने के बाद मानवाधिकार संगठनों ने चेतावनी दी थी की 300000 से अधिक लोगों को उनके घरों से निकाल दिया गया है।

लागोस के इस ग़रीब क्षेत्र में अधिकतर लोग झुग्गी झोपड़ियां बना कर रहते हैं। लागोस शहर की आबादी 21 लाख से अधिक है और नाइजीरिया के अलग अलग क्षेत्रों एवं पड़ोस के देशों के हज़ारों लोग रोज़ाना यहां रोज़गार की तलाश में आते हैं।