Home यूनाइटेड स्टेट्स कैप्टन हुमायूं खान भी अमेरिका का एक सच्चा सिपाही था जिसने देश...

कैप्टन हुमायूं खान भी अमेरिका का एक सच्चा सिपाही था जिसने देश के खातिर मौत को गले लगा लिया- हिलेरी क्लिंटन

अमेरिका में आगमी चुनाव में राष्ट्रपति पद के दोनों ही दावेदारों के बीच ज़ुबानी जग तेज़ हो गयी हैं. हिलेरी क्लिंटन और डोनाल्ड ट्रम्प के बीच दूसरी बहस में दोनों उम्मीदवारों के मध्य जम कर तकरार हुई. डोनाल्ड ट्रंप और हिलेरी क्लिंटन के बीच हुई दूसरी बहेस अन्य बहस से समानता काफी अलग रही.

राष्ट्रपति पद के लिए होने वाली बहेसो के मुद्दे हमेशा आतंकवाद, डॉलर के बढ़ते-घटते रेट और बेरोज़गारी को लेकर होते थे, लेकिन इस बार इस्लाफोबिया चुनावी बहेस में सबसे ज़्यादा चर्चा का विषय बना डोनाल्ड ट्रम्प ने मुसलमानो के प्रवेश पर अमेरिका को बैन लगा देना चाहिए, हिलेरी ने ट्रंप की इस नीति को आड़े हाथो लिया, हिलेरी ने कहा कि ट्रंप की सोच मुस्लिम समुदाय के प्रति अपरिप्कव है.

ट्रंप ने इस्लामोफिबिया पर बोलते हुए कहा कि हम सीरिया जैसे देशो की तबाही से अनजान नही है. ट्रंप ने कहा कि वह लाखो लोगो को सीरिया से यहाँ आता नही देखना चाहते, जबकि हम उनके बारे में सब जानते है वे कहा से आए है, कौन है, और हमारे देश के प्रति उनकी क्या भावनाए है.

डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि हिलेरी मुस्लिम कपल द्वारा अंजाम दिए गए सन बर्नार्डिनो जनसंहार का ज़िक्र तक नही करेगी.

हिलेरी ने ट्रंप को जवाब देते हुए कहा कि हमारी जंग इस्लाम के साथ नही है, हिलेरी ने कहा कि मुस्लमानो के प्रति ट्रंप कि सोच बेहद बेवकूफाना और खतरनाक है. ऐसे बयान आतंकियों कि मदद करते है, आतंकी ऐसे बयानों को लोगो को भड़काने के लिए इस्तमाल करते है. ऐसे बयान से आम मुसलमानो के दिल में अमेरिका के लिए नफरत भर्ती है.

हमारा देश धर्म स्वतंत्रता की नींव पर खड़ा है, हम अपने देश में बिना तनाव पैदा किये कैसे ट्रंप कि बात को अंजाम दे सकते है? क्या हम लोगो कि परीक्षाए लेगे जब वो हमारे देश आएगे? हिलेरी ने कहा कि यह एक गलती है, हम इस्लाम के साथ युद्धरत नहीं है, इसलिए मैं एक ऐसा देश चाहती हूँ जहा सब एक सामान हो.

उन्होंने कहा कि कैप्टन हुमायूं खान भी एक मुसलमान था जिसने देश की रक्षा करते हुए जान दे दी,लेकिन ट्रंप को यह पहलु नही दिखेगा क्योंकि वह इस्लामोफिबिया के शिकार है.