Home अरब देश आज मनाई जा रही हैं सऊदी, पाक और यूएई में ईद, ईद...

आज मनाई जा रही हैं सऊदी, पाक और यूएई में ईद, ईद का त्यौहार अमन का पैग़ाम

आज मनाया जा रहा हैं सऊदी अरब, यूएई और पाकिस्तान में ईद-उल-फ़ित्र का पर्व. विश्व के सभी मुल्कों में 6 से 7 जुलाई के बीच ईद का पर्व मनाया जायेगा. वही भारत, बांग्लादेश, चीन आदि मुल्कों में कल चाँद नज़र नहीं आया, जिसके बाद इन देशो में ईद का पर्व गुरुवार, 7 जुलाई को मनाई जाएगी.

रमज़ान हो रहा हैं अलविदा 

माह-ऐ-रमज़ान का आज आखिर दिन हैं, आज चाँद देख कर लघभग दुनिया के सभी देशो में कल ईद का पर्व मनाया जायेगा. चाँद नज़र आने के बाद लोगो का हुजूम बाज़ारों की रौनक बनेगा. वही दूसरी तरफ चाँद की तजदीक होने के बाद मस्जिदो के इमाम ईद-उल-फ़ित्र की नमाज़ के वक़्त की घोषणा करेंगे.

कहा पढ़ी जाएगी ईद की नमाज़

Eid celebration at the Sheikh Zayed Grand Mosque in Abu Dhabi. August 8, 2013. Photo by Erik Arazas

ईद की नमाज़ मस्जिदो में और शहर की बड़ी जगहों में अदा की जाती हैं, इस नमाज़ को जमात के साथ पढ़ना अनिवार्य हैं. ऐसा विश्वास है और हदीस (saying of Prophet Mohammad PBUH) में भी आया है, ईद की नमाज़ अदा करने पैदल जाना चाहिए, आप जितने क़दम मस्जिद की तरफ बढ़ाएंगे उतनी नेकिया आप कमा लेंगे.

कैसे करे ईद-उल-फ़ित्र की नमाज़ की तयारी

images

ईद के दिन नमाज़ अदा करने जाने से पहले गुस्ल करना चाहिए, साफ़-सुत्रे कपड़े पहनना चाहिए, बालों को अच्छे से तराशा हुआ होना चाहिए और खुशबू या इत्र लगा कर मस्जिद की तरफ कदम बढ़ाना चाहिए. ईद का त्यौहार अमन और शांति का त्यौहार हैं, जिसमे दुश्मन भी अपने-अपने गुस्से को भुला कर एक दुसरे से गले मिलते हैं. ईद का पर्व मुस्लमानो के लिए इनाम होता हैं, इन दिनों में रोज़ा रखना मना हैं.

ईद का पर्व देता हैं अमन का पैग़ाम

muslims-in-saudi-arabia-uae-us-celebrating-eid-ul-azha-today-1453746204-2917

नमाज़ अदा करने के बाद लोग अपने घरों की तरफ मिठाइयां लेकर लौटते हैं, रिश्तेदार-नातेदार एक-दुसरे के घर जाते हैं, सभी लोग एक दुसरे से गले मिलते हैं. बड़े लोग बच्चों को ईदी देते हैं. इस पर्व पर सभी मुस्लमानो के घर सिवइयां पकयि जाती है जोकि इस पर्व की मख़्सूस चीज़ो में से एक हैं ‘सिवइयां’ यह एक मीठी डिश हैं. लोग अच्छे-अच्छे पकवान बनाते हैं. मेले लगते हैं. ईद का पर्व खुशियों का पर्व होता हैं यह पर्व अपने साथ अमन और शांति का पैग़ाम लाता हैं.