Home अरब देश तुर्की में अनिश्चय की स्थिति, सड़कों पर उतरे लोग, सरकार और सेना...

तुर्की में अनिश्चय की स्थिति, सड़कों पर उतरे लोग, सरकार और सेना दोनों ने किया देश पर नियंत्रण का दावा

तुर्की में सेना के एक गुट और देश की जनता ने आर्मी के तख्ता पलटने की साज़िश को नाकाम कर दिया. देश के राष्ट्रपति रिसेप तईप एर्दोगन ने दावा किया है कि स्थिति अब नियंत्रण में है.

तख्तापलट की कोशिश में हुई हिंसा में अब तक 1500 सैन्य कर्मी गिरफ्तार किये जा चुके हैं. शुरुआत में जहां राष्ट्रपति एर्दोगन ने दावा किया था के देश की सत्ता उनके हाथ में हैं वही दूसरी ओर ताज़ा जानकारी के मुताबिक सेना ने सत्ता पर नियंत्रण का दावा किया हैं.

तुर्की में इस वक़्त अनिश्चय की स्थिति बानी हुई है एक तरफ राष्ट्रपति ने दावा किया हैं कि हमने देश को सेना के नियंत्रण से छुड़ा लिया हैं वही दूसरी तरफ सेना भी देश पर नियंत्रण रखने का दम भर रही हैं. और सरकार और विद्रोही सेना दोनों एक दुसरे के दावों को गलत बता रहे हैं.

जिस समय सेना ने हमले शुरू किए, उस वक्त राष्ट्रपति एर्दोगन छुट्टियां मना रहे थे. लेकिन वे तुरंत इस्तांबुल लौटे और घोषणा की कि सेना के कब्जे से जल्द ही देश को निकाल लिया जाएगा, राष्ट्रपति एर्दोगन ने कहा कि यह तख्तापलट की कोशिश राष्ट्रद्रोह है. इसके लिए जो भी जिम्मेदार है उसे भारी कीमत चुकानी होगी.

हालांकि राष्ट्रपति ने यह भी बताया कि जिन सैन्य अधिकारियों ने यह किया है उनकी गिरफ्तारी जारी है. एर्दोगन ने इसे सेना की सफाई करार दिया.

इस घटना पर देश के प्रधान मंत्री बिनाली यिलदीरिम ने मुसलमानो पर इलज़ाम लगते हुए कहा कि ये अमेरिका के मुस्लिम मौलवी फतेउल्लाह गुलेन के अनुयायियों की तरफ से सरकार के खिलाफ बगावत करने की महज एक कोशिश थी. हालांकि गुलेन से जुड़े संगठन ने इसमें हाथ होने की बात से इनकार किया है.

प्रधान मंत्री बिनाली यिलदीरिम ने दुसरे सुरक्षा बलों से कहा कि विद्रोही सेना का मुकबला करने में जो हो सके वह किया जाये, इसके बाद यिलदीरिम ने पूरे देश में कर्फ्यू कि घोषणा कर दी हैं, सभी हवाई अड्डों पर उड़ाने रद्द कर दी गयी हैं.

प्रधान मंत्री बिनाली यिलदीरिम ने एक चैनल से बात करते हुए कहा कि “जनता द्वारा चुनी गई सरकार ही सत्ता में रहेगी. सरकार तभी जाएगी, जब जनता चाहेगी और हमला करने वालों को इसकी बड़ी कीमत चुकानी होगी.

Web-Title: uncertain situation in Turkey govt and army both claim for control

Key-Words: Turkey, Recep Tayyip Erdoğan, Prime Minister Binali Yildirim, Army