Home अरब देश 63 साल की उम्र में भी बशीरन जाती हैं स्कूल, वजह जान...

63 साल की उम्र में भी बशीरन जाती हैं स्कूल, वजह जान कर आप भी प्रसन्न

कहा जाता हैं कि पढ़ने लिखने की कोई आयु नहीं होती हैं, इस बात को बंगालदेश की एक महिला ने साबित कर दिया हैं. बांग्लादेश के मेहरपुर की बशीरन नेसा जोकि 63 साल की उम्र में स्कूल में पढ़ने जा रही हैं.

बशीरन को बचपन में पढ़ने-लिखने का मौका नहीं मिला और साथ ही आठ साल की उम्र में उनकीं शादी हो गयी. शादी के बाद दूसरी औरतो की तरह बशीरन भी वह भी बच्चों की देखभाल और दुनिया जहान के दूसरे कामों में व्यस्त हो गईं.

इस उम्र पर आने के बाद बशीरन ने अचानक पढ़ने लिखने का फैसला किया, वह निरक्षर नहीं रहेंगी. उन्होंने मेहरपुर जिले के गांगनी ब्लॉक के होगलबड़िया गांव के स्कूल में दाखिल ले लिया हैं. बीबीसी से बात करते हुए उन्होंने ये जानकारी दी.

बीबीसी न्यूज़ के अनुसार बशीर ने सीधे सादे शब्दों में कहा, “मैं पढ़ाई कर रही हूँ. और कुछ भी नहीं. मेरा लड़का बड़ा हो गया है. मैं भी अब थोड़ी आज़ादी चाहती हूं.” बशीरन साल 2010 में पहली होगलबड़िया के स्कूल में दाखिले के लिए गई थीं. लेकिन स्कूल के अधिकारियों ने उन्हें दाखिला देने से मना कर दिया. लेकिन साल भर बाद वह फिर से दाखिल लेने स्कूल पहुंची और इस बार स्कूल प्रबंधक उनको मना नहीं कर सका.

वह बताती हैं, “मैं अब बूढ़ी हो गई हूं. उनकी पढ़ाई पूरी हो गई और आगे की पढ़ाई के लिए चले गए. बशीरन को इस्लाम का विषय सबसे अच्छा लगता है. उन्होंने बताया, “सबसे दोस्ती हो गईं है. उनके साथ मन लगता है. वे मेरी अच्छी सहेलियां हैं.”

इस साल उनकी प्राइमरी बोर्ड परीक्षा हैं, जिसके मद्देनज़र स्कूल की तरफ से भी उन पर अतिरिक्त ध्यान दिया जा रहा है, ताकि वह अपनी प्राइमरी बोर्ड परीक्षा अच्छे नंबर प्राप्त कर सके.