हाल के वर्षों में, सऊदी अरब में पूरी तरह “सऊदीकरण” लागू करने के लिए बड़े कदम उठाए हैं, हालांकि ऐसा लगता है कि सऊदी सरकार ने कदम बिना सोचे-समझे उठाया है.

सऊदी में “सऊदीकरण” प्रक्रिया का लक्ष्य विदेशी श्रम पर निर्भरता को कम करके अपने कर्मचारियों को राष्ट्रीयकृत और नौकरी प्रदान है. इस प्रकार, गैर-सऊदी ने हाल के महीनों में उनके लिए कम नौकरी के अवसर उपलब्ध कराए गये हैं.

2018 के पहले तीन महीनों में विदेशी श्रमिकों की संख्या में 6 प्रतिशत की कमी आई. इसी अवधि के दौरान 234,000 से अधिक प्रवासी सऊदी को अलविदा कह चुके है.

केवल 18 महीनों में, 800,000 से अधिक प्रवासियों ने देश छोड़ दिया है. यह संख्या 2017 में अनुमान से अधिक है, जिसमें दावा किया गया है कि 670,000 प्रवासी 2020 तक सऊदी अरब छोड़ देंगे.

हालांकि, प्रवासियों के देश छोड़ने पर भी सऊदी नागरिकों के बीच बेरोजगारी दर में कमी लाने में मदद नहीं की है. सऊदी ने विजन 2030 योजना के तहत कई आदेश पारित किए हैं, जिनमें से एक सरकार और मंत्रालयों में तीन साल के भीतर प्रवासी श्रमिकों से संबंधित सभी अनुबंधों को समाप्त किया गया है और इसके अलावा शॉपिंग मॉल में नौकरियों का भी सऊदीकरण किया गया है.

2017 में, सऊदी अरब के श्रम और सामाजिक विकास मंत्री ने देश में निजी क्षेत्र के कर्मचारियों के लिए दो साल से एक वर्ष तक प्रवासी वर्क वीजा की वैधता को कम करने का आदेश जारी किये थे.

न्यूज़ अरेबिया एकमात्र न्यूज़ पोर्टल है जो अरब देशों में रह रहे भारतीयों से सम्बंधित हर एक खबर आप तक पहुंचाता है इसे अधिक बेहतर बनाने के लिए डोनेट करें
डोनेशन देने से पहले इस link पर क्लिक करके पढ़ें Click Here

वर्ल्ड न्यूज़ अरेबिया का यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें :-


आज की पसंदीदा ख़बरें
Loading...

शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here