source: Saudi Gazette

मक्का – मक्का के अमीर, प्रिंस अब्दुल्लाह बिन बनदर ने सोमवार को मक्का में आबे ज़मज़म के चल रहे मरम्मत काम का निरीक्षण किया. उन्होंने कहा कि, लगभग 90 प्रतिशत काम पूरा हो चुका है और सात महीने का नवीनीकरण परियोजना अप्रैल के बीच तक पूरा हो जाएगा.

प्रिंस अब्दुल्ला ने वित्त मंत्रालय, दो पवित्र मस्जिदों के मामलों के लिए प्रेसीडेंसी, हरम सुरक्षा बलों, और परियोजना के साथ जुड़े सभी लोगों को आखिरी वक़्त से पहले परियोजना को पूरा करने के प्रयासों के लिए उनका शुक्रिया किया.

क्या है ज़मज़म प्रोजेक्ट?

इस दौरान शेख अब्दुरहमान अल-सुदैस, राष्ट्रपति पद के अध्यक्ष अब्दुल फतह मोशाद, हज और उमराह के उप मंत्री और कई अधिकारी शामिल थे. अमीर ने नवीकरण कार्य की प्रगति का निरीक्षण किया जिससे ज़्यादा पवित्र ज़मज़म निकालने में मदद मिलेगी.

ऐतिहासिक कल्याण को पुनर्निर्मित करने के लिए परियोजना के भाग के तौर पर ग्रैंड मस्जिद कॉम्प्लेक्स के अंदर पांच ज़मज़म के पानी ट्रांजिट्स के निर्माण के लिए, 250 से ज्यादा इंजीनियरों, तकनीशियनों और श्रमिकों, 11 क्रेनों के समर्थन में काम करते हैं.

source: Saudi Gazette

मस्जिद अल-हरम के ज़मज़म का नवीकरण करने के लिए 250 से ज़्यादा इंजिनियरों, तकनीशियनों और मजदूरों, 11 क्रेनों द्वारा मस्जिद कॉम्प्लेक्स के अंदर पांच ज़मज़म जल ट्रांजिट बनाने के लिए काम प्रगति पर है और जल्द ही पूरा होने कि उम्मीद की जा रही है.

दो पवित्र मस्जिद मामलों के प्रेसीडेंसी के प्रमुख शेख अब्दुल रहमान अल-सुदाइस ने कहा कि यह मार्ग 8 मीटर चौड़ा और 120 मीटर लंबा होगा. अल-मदीना अरबी अख़बार के मुताबिक, अल-सुदाइस ने को परियोजना स्थल के दौरे के बारे में बताते हुए कहा कि,”काम लगभग 50 प्रतिशत पूरा हो चुका है और यह अच्छी तरह से प्रगति कर रहा है.”

नमाज़ से पहले हो जाता काम बंद

ज़मज़म का काम हर नमाज़ से आधे घंटे पहले बंद कर दिया जाता है और नमाज़ के फौरन बाद शुरू कर दिया जाता है. खुदाई और कंकरीट काम के लिए मशीनों की मदद से यहाँ काम किया जा रहा हैं, जबकि बड़े ट्रकों के मस्जिद के मलबे को हटाया जा रहा है.

यह परियोजना साढ़े चार महीने पहले शुरू हुई थी. ज़मज़म का पूरा काम राष्ट्रपति पद की देखरेख में किया जा रहा है और रमज़ान के महीने के आने से पहले इसे पूरा कर दिया जाएगा. अभी इस काम को पूरा होने के लिए साढ़े तीन महीने और लगेंगे, क्योंकि रमज़ान के वक़्त बड़ी संख्या में दुनिया भर तीर्थयात्री उमराह अदा के लिए मक्का पहुँचते है.

source: Saudi Gazette

प्रोजेक्ट की शुरुआत के बाद से, सुरक्षा एजेंसियों ने काबा शरीफ के चारों तीर्थयात्रियों के लिए सुरक्षा इंतज़ामात बढ़ा दिए है. सुरक्षा को मद्देनज़र रखते हुए ज़मीनी स्तर पर तवाफ़ अदा करने के लिए उमराह तीर्थयात्रियों को अहराम पहनने की इजाज़त दी गयी है. जबकि अन्य तीर्थयात्री ऊपरी स्तरों में तवाफ अदा करते है. क्रेनों से काम करते वक़्त मस्जिद की छत पर तवाफ अदा करने की इजाज़त नहीं है.

उमराह अदा करने वाले तीर्थयात्री गेट्स नंबर 94, 93, 89, 88 और 87 से मस्जिद में प्रवेश कर सकते हैं जहां उन्हें मताफ तक पहुंचने के लिए एक नए रास्तों से जाने के निर्देश दिए जातें है.

ज़मज़म परियोजना के दो भागों है. पहला भाग मताफ़ के पूर्वी हिस्से से पांच पारगमन का निर्माण करना है, जबकि दूसरे भाग में पानी का निर्वाह करना और अच्छी तरह से आसपास के क्षेत्र से कंक्रीट और लोहे के कणों को निकालना शामिल है.

source: Saudi Gazette

अल-मदीना के मुताबिक, राष्ट्रपति पद के एक आधिकारी ने बताया कि, “परियोजना का दूसरा चरण हानिकारक सामग्रियों को निकालकर पानी को साफ़ करना है. यह ज़मज़म के पानी का बहाव भी बढ़ाएगा.”

शेख अल-सुदाइस ने कहा कि ज़मज़म पानी पुनर्निर्माण परियोजना से हज और उमराह के लिए आने वाले तीर्थयात्रियों के लिए सुविधाओं और सेवाओं में सुधार लाया जाएगा. ऐतिहासिक ज़मज़म की हिफाज़त करने के लिए यह परियोजना तैयार कि गयी है.

न्यूज़ अरेबिया एकमात्र न्यूज़ पोर्टल है जो अरब देशों में रह रहे भारतीयों से सम्बंधित हर एक खबर आप तक पहुंचाता है इसे अधिक बेहतर बनाने के लिए डोनेट करें
डोनेशन देने से पहले इस link पर क्लिक करके पढ़ें Click Here

वर्ल्ड न्यूज़ अरेबिया का यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें :-


आज की पसंदीदा ख़बरें
Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here