Home अरब देश शर्मनाक: यह देश कराना चाहता है पैग़म्बर साहब के कार्टून बनाने की...

शर्मनाक: यह देश कराना चाहता है पैग़म्बर साहब के कार्टून बनाने की प्रतियोगिता, दुनिया भर के मुसलमानों में फ़ैला गुस्सा, किया विरोध

इन दिनों मुस्लिमों के खिलाफ दुनियाभर में ज़ुल्म किये जारे है. अब मुस्लिमों को ठेस पहुंचाने के लिए एक नयी साज़िश को अंजाम दिया है. निदरलैंड के डच लॉमकर गीर्ट वाइल्डर्स दुनिया भर में मुसलमानों के खिलाफ नफरत भरे बयानों के लिए जाना जाता है. यह शख्स मुसलमानों और इस्लाम का दुश्मन है. इस शख्स ने दुनिया भर के मुस्लिमों में गुस्सा भर दिया जब इसने इस साल नवम्बर यह एक ऐसी घोषणा की जिसमें पैग़म्बर साहब के कार्टून बनाने की प्रतियोगिता कराना है. जो सबसे खराब कार्टून बनाएगा वह इस घटिया प्रतियोगिता का विजेता बन जाएगा.

टाइम्स नाउ के मुताबिक, पाकिस्तान के सीनेट ने सोमवार को एक इस्लाम विरोधी डच सांसद गीर्ट वाइल्डर्स द्वारा पैगंबर मुहम्मद (स.अ.व.) के कार्टून बनाने की प्रतियोगिता की निंदा करते हुए एक प्रस्ताव अपनाया है. संसद के ऊपरी सदन में अपने पहले भाषण में, प्रधान मंत्री इमरान खान ने संयुक्त राष्ट्र और इस्लामी सहयोग संगठन (ओआईसी) के संगठन को ‘निंदात्मक कारिकाओं’ का मुद्दा उठाने का वादा किया है.

 

प्रस्ताव के पारित होने के बाद, इमरान खान ने कहा कि केवल बहुत कम यूरोपीय लोग इस तरह की निंदात्मक सामग्री से मुसलमानों के दर्द को समझते हैं. ख़ास तौर से, गीर्ट वाइल्डर्स इस्लाम विरोधी इस्लाम के विचारों के लिए जाने जाते हैं. पाकिस्तान के प्रधान मंत्री ने ऐसी घटनाओं की घटना के लिए मुस्लिम देशों के बीच एकता की कमी को दोषी ठहराया.

खान ने कहा कि मुस्लिम देशों की “सामूहिक विफलता” के रूप में इसका वर्णन करते हुए खान ने निंदा की सामग्री के खिलाफ कोई अंतरराष्ट्रीय नीति नहीं है. ना ही इस तरह के अपराधों के लिए कोई सज़ा है जो मुसलसल मुस्लिमों के खिलाफ नफरत फ़ैला रहे है. अब पकिस्तान ने इस मुद्दे से लड़ने की कसम खायी है. दुनिया भर के मुस्लिमों में गुस्सा है वह इसका विरोध कर रहे है.

Dutch lawmaker Geert Wilders is known for his fierce criticism of Islam. (Photo | AP)

वहीँ आपको डच प्रधान मंत्री मार्क रूटे ने अपनी सरकार को प्रतियोगिता से दूर कर दिया है. वाइल्डर्स “सरकार का सदस्य नहीं है. प्रतियोगिता एक सरकारी पहल नहीं है.  वहीँ मुस्लमों का कहना है की पैगंबर साहब के शारीरिक चित्रण इस्लाम की बदनाम करने की साजिश है .