Home अरब देश सऊदी में कफ़ील से क़रार तोड़ने कामगारों पर लग सकता हैं प्रतिबन्ध...

सऊदी में कफ़ील से क़रार तोड़ने कामगारों पर लग सकता हैं प्रतिबन्ध या जुर्माना

सऊदी अरब में कामगारों पर आयी समस्या अभी थमी नहीं हैं. सऊदी अरब में कफ़ील के अन्तर्गत काम करने मज़दूरों को कफ़ील के साथ क़रार तोड़ने पर जुर्माना, निर्वासन और देश में प्रवेश पर स्थाई प्रतिबंधों का सामना करना पड़ सकता है.

साथ ही सऊदी की पासपोर्ट संस्था ने भी सऊदी की कंपनियों से आग्रह किया हैं कि कफ़ील के साथ करार तोड़ने वालो को काम न दे.

कफ़ाला व्यवस्था यानी अप्रवासी कामगारों के लिए स्थानीय प्रायोजक. पासपोर्ट संस्थ्य का कहना हैं कि यदि किसी भी कंपनी ने नियमो का उलंघन किया तो उसको भारी जुर्माना भरना पड़ेगा.

इसके साथ ही सऊदी स्थित कई मानव अधिकार संस्था ने कफ़ाला व्यवस्था को खत्म करने की मांग करते रहे हैं. क्योकि उनका मन्ना हैं कि यह एक तरह की गुलामी है. सऊदी अरब का यह कानून हैं कि विदेश से आये कामगारों को बिना कफ़ील के काम नहीं मिल सकता हैं.

पासपोर्ट संस्था ने सऊदी नागरिको से भी आग्रह करते हुए कहा कि वो कफ़ील के साथ करार तोड़कर भागने वाले कामगारों को अपने यहाँ नौकरी न दें. ऐसा करने पर उन पर भी भारी ज़ुर्माना लगाया जा सकता है.

श्रम मंत्री मुफरेज़ अल हक़बानी का कहना है कि सऊदी अरब में काम करने वाली ज्यादातर श्रमिक खुश हैं. ये श्रम बाज़ार का बड़ा छोटा सा हिस्सा है. हमारे यहां एक करोड़ विदेशी श्रमिक खुशी के साथ काम करते हैं. जब सऊदी ओजर जैसी कंपनी नियमों का पालन करने में नाकाम रहती है तो इससे हमारे श्रम बाज़ार की अच्छी छवि नष्ट नहीं होगी.”

Web-Title: Foreign worker could be in trouble or barred from Saudi

Key-Words: Saudi, Worker, Kafeel, Agreement, Trouble