Home अरब देश सऊदी में प्रवासी महिला कर्मचारी को ‘मौत की सज़ा’ देने के बाद...

सऊदी में प्रवासी महिला कर्मचारी को ‘मौत की सज़ा’ देने के बाद सऊदी सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन

सऊदी में इंडोनेशिया की प्रवासी महिला कर्मचारी को मौत की सज़ा देने के बाद इंडोनेशिया में सऊदी सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन शुरू हो गया है. सूद सरकार ने बिना इंडोनेशिया सरकार की इजाज़त के नौकरानी को मौत की सज़ा दे दी. जिसका वहां के लोगों ने जमकर विरोध किया और सऊदी सरकार के खिलाफ नारेबाजी भी की.

आपको बता दें इंडोनेशियाई महिला प्रवासी कार्यकर्ता को अपने परिवार या इंडोनेशियाई सरकार को सूचित किए बिना एक बार फिर सऊदी सरकार ने एक बड़ा कदम उठाते हुए प्रवासी महिला को मौत की सज़ा दे दी है. जिसके बाद इंडोनेशिया में सऊदी सरकार के खिलाफ लोगों ने गुस्सा ज़ाहिर किया.

मिडिल ईस्ट मॉनिटर के मुताबिक, प्रवासी महिला ने सऊदी बॉस की हत्या सिर्फ इसलिए की क्योंकि बॉस महिला के यौन उत्पीड़न कर रहा है जिसके बाद सऊदी सरकार ने प्रवासी महिला तुती तुर्सिलवती को सोमवार को ताइफ शहर में मार डाला.

इंडोनेशिया के राष्ट्रपति जोको विदोडो ने आज निर्णय के आलोचना की और कहा कि सरकार ने आधिकारिक तौर पर रियाद का विरोध किया है और देश में इंडोनेशियाई श्रमिकों के लिए बेहतर सुरक्षा की मांग की है.

सऊदी अरब के विदेश मंत्री आदिल अल-जुबेर के बाद एक सप्ताह बाद तुषिलवती को मार डाला गया था, जो प्रवासी श्रमिकों के अधिकारों पर चर्चा के लिए जकार्ता में अपने इंडोनेशियाई समकक्ष और राष्ट्रपति विदोदो से मिले थे.

वर्ल्ड न्यूज़ अरेबिया को मिली जानकारी के मुतबिक, माना जा रहा है की सऊदी ने बिना इजाज़त के चौथी बार इंडोनेशिया के प्रवासी को मौत की सज़ा दी है. सऊदी अरब पिछले तीन वर्षों में इंडोनेशियाई प्रवासी श्रमिक पर मौत की सजा देने से पहले नोटिस देने में असफल रहा. हालांकि, यह निष्पादन राज्य के लिए विशेष रूप से संवेदनशील क्षण में आता है जो प्रमुख पत्रकार जमाल खशोगगी की हत्या की व्याख्या करने के लिए अत्यधिक वैश्विक दबाव में है.