Home अरब देश मुस्लिम देशों का रियाध की बैठकों में भाग लेना गैर इस्लामी: युसूफ...

मुस्लिम देशों का रियाध की बैठकों में भाग लेना गैर इस्लामी: युसूफ करजावी

मुस्लिम विद्वानों के अंतर्राष्ट्रीय संघ के अध्यक्ष और प्रचारक यूसुफ करजावी ने कतर की राजधानी में विभिन्न देशों के विद्वानों के साथ मुलाकात में सऊदी अरब द्वारा अमरीकी राष्ट्रपति की उपस्थिति में इस्लामी और अरब देशों की बैठकों के आयोजन को इस्लामी दुनिया और इस्लामी सभ्यता का अपमान बताया और इसको इस्लामी देशों पर सऊदी अरब को प्राथ्मिकता दिये जाने का बिना सोचा समझा उठाया जाने वाला कदम बताया और कहा यहा कार्य यहूदी और ईसाई साजिश है और उसका मकसद ज़ायोनी शासन के हितों की पूर्ती और सच्चे इस्लाम के चेहरे को कुरूप दिखाना है।

शेख करज़ावी ने कहा कि सऊदी लीडरों ने अपने नेताओं के चुनाव में काफ़िरों की रीत का अनुसरण किया है और यह बैठकें इस देश के हितों की पूर्ती के लिए आयोजित की गई है, उन्होंने कहा कि वहाबियत किसी भी प्रकार से इस्लामी दुनिया की प्रतिनिधि नहीं है और उसके लीडरों के कार्य इस्लामी दुनिया और मुसलमानों के साथ धोखा है।

उन्होंने कहा कि कट्टरपंथ और सऊदी वहाबियत इस्लामी दुनिया के सच्चे शत्रु है और आज को इस्लामी दुनिया संकट से जूझ रही है उसका कारण सऊदी अरब द्वारा अपने हितों की पूर्ती करना है, को यह देश कैसे दूसरे देशों के नेताओ को उस कट्टरपंथ और आतंकवाद के विरुद्ध मुकाबले के लिए खड़ा सकता है जिसको स्वंय उसने पैदा किया है।

उन्होंने अंत में कहा कि खाड़ी और इस्लामी देशों का इन बैठकों जिनका शीर्षक अरबी इस्लामी अमरीकी बैठक है और जिसका सऊदी अरब और अमरीका नेतृत्व कर रहे हैं में सम्मिलित होना इस्लामी शरीअत के सिद्धाओं के विरुद्ध है, जो इस्लामी देशों की केंद्रीय भूमिका को समाप्त कर देगा।