Home अरब देश मीडिया में फ़ैल रही सऊदी प्रिंस के जुए में पत्नियाँ हार जाने...

मीडिया में फ़ैल रही सऊदी प्रिंस के जुए में पत्नियाँ हार जाने की खबरें, कुछ और ही है सच्चाई

सोशल मीडिया और डिजिटल मीडिया के दौर में चारों ओर बस भागदौड़ है. हर मीडिया ग्रुप चाहता है कि कोई भी खबर वो ही सबसे पहले जनता तक पहुंचाए. इस आपाधापी में कई बार मीडिया ग्रुप ऐसी खबरें प्रकाशित कर देते हैं जिनका वास्तविकता से कोई लेना देना नहीं होता. ऐसी झूठी खबरों को उस एक ग्रुप की देखादेखी दूसरे भी जल्द से जल्द कॉपी-पेस्ट करना शुरू कर देते हैं और जब तक उस खबर की असलियत सामने आती है तब तक डिजिटल मीडिया उस झूठी खबर और उस पर लगे मिर्च-मसाले से पट चुका होता है.

हाल ही में कुछ वेबसाइटों द्वारा एक खबर चलायी जा रही है जिस में कहा जा रहा है कि सऊदी अरब के प्रिंस माजिद बिन अब्दुल्लाह बिन अब्दुल अज़ीज अल सऊद एक कैसिनो में जुए में 22 अरब रुपयों के साथ साथ अपनी पांच पत्नियाँ भी हार गए हैं. ये खबर पिछले महीने से इंटरनेशनल मीडिया में भी छाई हुई है. सोशल मीडिया में चल रही खबरों के मुताबिक सऊदी प्रिंस ने मिस्र के एक कसीनो में 6 घंटे बिताए और वह जुए में अपनी 9 में से 5 बीवियों को हार गए. 5 बीवियों के हारने के साथ ही वह 359 मिलियन डॉलर (करीब 22 अरब रुपए) भी गंवा बैठे. हैरानी की बात तो ये है कि जिन प्रिंस माजिद के बारे में ये खबर चलायी जा रही है,उनकी मौत लम्बी बीमारी के बाद 2003 में ही हो चुकी है.

इन खबरों में कहा जा रहा है कि मिस्र के जाने-माने सिनाई ग्रैंड कसीनों में करीब 6 घंटे उन्होंने पोकर खेला जिसमें वह सैकड़ों डॉलर हार गए. यही नहीं कर्जा चुकाने के लिए उन्होंने अपनी 5 पत्नियों को भी दांव पर लगा दिया. कसीनो के डायरेक्टर के हवाले से कहा गया है कि पत्नियों के बदले में प्रिंस को 25 मिलियन डॉलर मिले, और वो इस रकम को भी हार गए और अपनी पत्नियों को छोड़कर चले गए.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक इस बात को लेकर भी पशोपेश है कि मिस्र सरकार और सऊदी परिवार के बीच इस मुद्दे पर क्या निष्कर्ष निकला. रिपोर्ट्स में कहा गया कि अभी तक यह साफ नहीं हो पाया है कि प्रिंस की पत्नियों का क्या होगा. इस बारे में भी कोई खबर नहीं है कि उन्हें सऊदी वापस भेजा जाएगा या नहीं. कुछ विशेषज्ञों का मानना है कि अगले कुछ हफ्तों में सऊदी का शाही घराना इन्हें खरीदकर वापस ले जाएगा. अगर वह ऐसा नहीं करते आते हैं तो आने वाले कुछ महीनों में कतर या यमन में इन्हें नीलाम कर दिया जाएगा.

Previous articleअपनी हद से बाहर निकल कर ख्वाब देख रहा है सऊदी अरब: संयुक्त राष्ट्र
Next articleट्युनिशिया में जबरदस्ती रोज़ा रखवाए जाने के विरोध में सडकों पर उतरे लोग