Home अरब देश nike ने हिजाब पहनने वाली एथलीटों के लिए लांच किया स्पोर्ट्सवेयर

nike ने हिजाब पहनने वाली एथलीटों के लिए लांच किया स्पोर्ट्सवेयर

नाइक के नाइक प्रो हिजाब लांच करने की घोषणा के बाद अब मुस्लिम महिला एथलीट भी अब वैश्विक एथलेटिक स्पोर्ट्सवेयर में खेलों में प्रदर्शन कर पाएंगी. नाइके के एक स्रोत ने हाल ही में वायरल विडियो अभियान की पुष्टि की जिस में मध्य-पूर्व की महिला एथलीट दिखाई गयी हैं. ये विडियो अभियान नाइके के लांच किये जाने वाले प्रो हिजाब स्पोर्ट्सवेयर के बारे में है जो 2018 में बाज़ार में उतारे जायेंगे.

इस अभियान और इस स्पोर्ट्सवेयर की प्रेरणा वह महिला धावक है जिसने 2012 में वैश्विक मंच पर खड़े होने का सम्मान अर्जित किया था. इस हिजाब को बनने में एक साल से ज्यादा वक़्त ज़रूर लग सकता है लेकिन इसके आने से खेलों को अपनाने वाली महिलाएं भी बेझिझक उन में बेहतरीन प्रदर्शन कर पाएंगी.

नाइके रनर की प्रेरणा सऊदी अरब की साराह अत्तार जिन्होंने लन्दन ओलंपिक्स की 800 मीटर की हीट प्रतिस्पर्धा में भाग लिया था, उनसे पहले बहरीन की धाविका रुकैया-अल-घसरा ने भी 2004 में एथेंस ओलंपिक्स और उससे 4 साल पहले बीजिंग ओलंपिक्स में हिजाब पहन कर भाग लिया था.

नाइके के वैश्विक प्रवक्ता मेगन सालफील्ड ने बताया कि नाइके प्रो हिजाब एथलीटों के कहे अनुसार उनकी सुविधा के अनुरूप तैयार किया गया है. एथलीटों ने नाइके को बताया कि वे कैसे स्पोर्ट्सवेयर में सहज महसूस कर सकती और बेहतरीन प्रदर्शन कर सकती हैं. और हम ये उम्मीद करते हैं कि इससे दुनिया भर की एथलीटों को मदद मिलेगी.

सालफील्ड ने बताया कि नाइके एथलेटिक हिजाब की रूपरेखा ऑरेगोन स्थित नाइके मुख्यालय में नाइके स्पोर्ट्स रिसर्च लैब में अमीरात ओलिंपिक वेटलिफ्टिंग एथलीट अम्ना-अल-हद्दाद के भ्रमण के दौरान तैयार हुई. हद्दाद को शिकायत थी कि उनके पास ओलंपिक्स में प्रदर्शन करने के लिए केवल एक हिजाब है और उन्हें हर प्रतियोगिता के दौरान रात में उसे धोना पड़ता है.

वहां से हमने अम्ना के साथ काम किया और इस बात पर अध्ययन किया कि अन्य महिला एथलीटों को प्रदर्शन के दौरान कैसा हिजाब चाहिए होता है जिस में वे सहज रहे. हमने जाना कि उन्हें हल्का और अपनी जगह से न खिसकने वाला हिजाब चाहिए और हमने उसी दिशा में काम किया.