Home अरब देश OIC करेगी मक्का पर हुए मिसाइल हमले पर विचार

OIC करेगी मक्का पर हुए मिसाइल हमले पर विचार

सऊदी अरब के पवित्र शहर मक्का पर हौथी विद्रोहियों द्वारा मिसाइल हमले की कोशिश पर विचार विमर्श करने के लिए आर्गेनाइजेशन ऑफ़ इस्लामिक कोऑपरेशन (OIC) गुरुवार को एक बैठक करने जा रहा हैं.

वर्ल्ड न्यूज़ अरबिया को मिली जानकारी के अनुसार पिछले सप्ताह आर्गेनाइजेशन ऑफ़ इस्लामिक कोऑपरेशन के विदेश मंत्रियो की तत्काल बैठक हुई थी.

पिछले सप्ताह हुई इस बैठक में आर्गेनाइजेशन ऑफ़ इस्लामिक कोऑपरेशन ने हौथी विद्रोहियों को हथियार और मिसाइल मुहैय्या करने वाले लोगो का खंडन भी किया था.

आर्गेनाइजेशन ऑफ़ इस्लामिक कोऑपरेशन ने भी हौथी विद्रोहियों के इस हमले की आलोचना की थी, इसके अलावा पूरी मुस्लिम जगत सहित अन्य विश्व हस्तियों ने भी हौथी विद्रोहियों के इस नापाक काम का खंडन किया था.

रियाध स्थित विदेशी राजदूतों ने एक आवाज़ उठाते हुए पवित्र शहर मक्का पर हुए विफल हमले की आलोचना की. अरब न्यूज़ के अनुसार जर्मन के राजदूत ने कहा कि हम इस विफल हमले कि कड़े शब्दो में आलोचना करते हैं. उन्होंने कहा कि यमन में शांति कायम करने के लिए ज़रूरी हैं कि संयुक्त राष्ट्र द्वारा प्रस्तावित बिल पर समीक्षा कि जाये.

फ़िनलैंड के राजदूत पक्का वोयूटिलाइनें ने कहा कि सऊदी अरब की पवित्र भूमि पर इस तरह का मिसाइल अटैक की कड़े शब्दो में निंदा करते हैं. यह किसी भी तरह से स्वीकृत नहीं हैं.

अरब न्यूज़ के मुताबिक बांग्लादेश के राजदूत गुलाम मोर्शी ने बताया कि बंगालदेश हौथी विद्रोहियों के इस हमले की कड़ी आलोचना करता हैं. यह हमला सऊदी अरब पर नहीं हैं बल्कि सिर्फ इस्लाम पर हैं.

उन्होंने बताया कि मक्का और मदीना की सुरक्षा को और मज़बूत करने के लिए बांग्लादेश अपने सैनिको को भी तैनात करेगा. इसके साथ ही गल्फ कौंसिल कॉपरपोरेशन ने भी हौथी विद्रोहियों बीके इस हमले की निदा की.

मिस्र ने भी इस हमले की निंदा करते हुए कहा कि यह हमला पवित्र शहर मक्का में श्रद्धालुओं को निशाना बनाने के लिए किये गया था.

उल्लेखनीय हैं कि 28 अक्टूबर गुरुवार देर रात यमन में हौथी विद्रोहियों ने मुस्लिम समुदाय के सबसे पवित्र शहर मक्का को निशाना बनाते हुए मिसाइल दाग डाली लेकिन सऊदी अरब ने इस मिसाइल को निशाने पर पहुँचने से पहले ही नष्ट कर दिया.

मिसाइल को लक्ष्य पर पहुँचने से पहले ही सऊदी सेना ने नाकाम कर दिया, मक्का पहुचने से लगभग 65 किलोमीटर पहले ही इस हवा में मार गिराया गया.