Home अरब देश गर्म सीमेंट कंटेनर लीक होने से सऊदी अरब में हुई थी भारतीय...

गर्म सीमेंट कंटेनर लीक होने से सऊदी अरब में हुई थी भारतीय प्रवासी की मौत , कम्पनी ने नहीं किया परिवार को सूचित

भारत के पंजाब राज्य के गुरदासपुर जिले के मूल निवासी निसान सिंह (32) की सऊदी अरब में एक अस्पष्ट घटना में मृत्यु हो गई.निसान सऊदी अरब में एक सीमेंट कंपनी में काम करता था. निसान की मृत्यु की खबर उसकी कम्पनी ने उसके घरवालों को नहीं दी थी. निसान की मौत की खबर निसान के घरवालों को तब पता चली जब निसान के एक दोस्त ने निसान के घरवालों को फ़ोन कर सऊदी अरब आने को कहा.

घर का खर्चा चलाने वाले निसान एक मात्र सहारा 

निसान के घर में तीन बहनें और माँ हरजिंदर कौर हैं.निसान के पिता 12 साल पहले मर गए थे. निसान को सऊदी अरब में नौकरी दिलवाने के लिए निसान के परिवार ने एक ट्रैवल एजेंट का भुगतान करने के लिए लगभग 2.5 लाख रुपये की व्यवस्था करने के लिए अपनी जमीन का एक टुकड़ा ट्रेवल एजेंट के पास गिरवी रख दिया था.

नहीं बताया कंपनी ने मौत के बारे में 

सोमवार को निसान की बहन राजबीर कौर ने कहा कि निसान का 7 अप्रैल को निधन हो गया था. “हमारे परिवार को निसान के दोस्तों में से एक, अमन, जो सऊदी अरब में काम करता है, ने हमें हमारे भाई की मौत के बारे में बताया.” अमन ने उनसे कहा कि निसान को ‘एसिड एक्सीडेंट की वजह से 31 मार्च को अस्पताल में भर्ती कराया गया था. उन्हें 7 अप्रैल को मृत घोषित कर दिया गया था.

राजबीर ने कहा की “आश्चर्यजनक बात यह है की ,आज तक कंपनी के अधिकारियों ने हमें इसके बारे में सूचित नहीं किया. राजबीर ने कहा की “हमने हमारे घर का खर्चा चलाने वाला एकमात्र सहारा खो दिया है.” हम उसके शरीर को देखना चाहते हैं उसे भारत लाया जाए.

भारतीय विदेश मंत्री से की मदद की गुहार 

निसान के परिवार ने अब भारत के विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से निसान का शव भारत वापस लाने की अपील की है और परिवार में अब तक कोई कमाई करने वाला नहीं है तो मुआवजे की मांग भी की गई है. निसान की बहन ने कहा की  “हमने पिछले तीन वर्षों से उसे नहीं देखा था, अब मेरी मां अपने बेटे का अंतिम संस्कार अपने हाथों से करना चाहती है.”

उन्होंने कहा कि सऊदी अरब जाने के बाद निसान घर नहीं आया था क्योंकि उसे छुट्टी नहीं दी गयी थी.

सीमेंट टैंक हुआ लीक 

निशन के सहयोगियों ने बताया की वह कारखाने में एक ड्राइवर के रूप में काम कर रहा था और वह कुछ और काम करना चाहता था. राजबीर ने कहा की “निसान के दोस्तों ने दावा किया है की निसान की शिफ्ट 10 बजे से शाम 6 बजे तक थी , जिसके दौरान गर्म सीमेंट वाट (कंटेनर) लीक हो गया और निसान पर जा गिरा.