Home अरब देश मॉल्स में प्रवासियों के काम की मनाही के पीछे आखिर क्या है...

मॉल्स में प्रवासियों के काम की मनाही के पीछे आखिर क्या है सऊदी प्रशासन का मकसद

रियाध: सऊदी अरब के श्रम और सामाजिक विकास मंत्रालय ने हाल ही में ये घोषणा की है कि सऊदी अरब के शॉपिंग मॉल में कोई प्रवासी काम नहीं कर सकेगा. सऊदी शॉपिंग मॉल्स में केवल सऊदी नागरिक ही काम कर पाएंगे. मंत्रालय के प्रवक्ता खालिद अब्खखेल ने कहा कि श्रम और सामाजिक विकास मंत्री (अली अल-घॉफ़ैस) ने सऊदी अरब में सऊदी अरब में बंद शॉपिंग सेंटरों में काम करने के लिए एक आदेश जारी किया है.

सऊदी श्रम एवं सामाजिक विकास मंत्रालय की ओर से जारी इस आदेश पर आये एक बयान में कहा गया है कि सऊदी अरब के शॉपिंग मॉल्स में कपड़ों और अन्तवस्त्रों की दुकानों में केवल महिलाएं ही काम कर सकेंगी. ये दुकानें मुख्यत शॉपिंग मॉल के अन्दर ही स्थित होती हैं. वहीँ अन्य दुकानों में सऊदी पुरुष ही काम कर सकेंगे. फिलहाल सऊदी अरब के शॉपिंग मॉल्स में प्रत्येक पांच में से एक कर्मचारी ही सऊदी नागरिक है.

सऊदी प्रशासन ने ये कदम सऊदी नागरिकों में बेरोजगारी दर को कम करने के लिए तो उठाया ही है, लेकिन इसकी शुरुआत शॉपिंग मॉल्स से करने का कुछ दूसरा अर्थ भी नज़र आ रहा है. किसी भी देश के शॉपिंग मॉल्स में मुख्यत उस देश के संपन्न वर्ग के लोग और पर्यटक ही जाते हैं. सऊदी अरब में महिलाओं के लिए कड़े नियम किसी से छिपे नहीं हैं. इसी तरह सऊदी अरब की जलवायु भी बेहद कठिन है ये सब जानते हैं.

संभवत ये कदम इसीलिए उठाया गया हो कि सऊदी नागरिक शॉपिंग मॉल्स में काम करेंगे तो उनमें बेरोजगारी दर कम होने के साथ-साथ उन्हें माल के अन्दर ठन्डे वातावरण में काम करने का मौका मिलेगा और बाहरी कामों के लिए प्रवासी कामगारों को काम पर रखा जायेगा. साथ ही सऊदी महिलाओं के मॉल्स में समय बिताने के दौरान उन्हें कोई प्रवासी से उचित दूरी बनाने में भी आसानी रहेगी , कोई आपत्तिजनक हरकत नहीं कर सकेगा, इससे उनकी पर्देदारी भी महफूज़ रहेगी. खैर, सऊदी प्रशासन की इस कदम को लेकर मंशा चाहे जो भी हो, ये तय है कि सऊदी अरब में प्रवासियों के लिए काम के अवसरों में कटौती होने के साथ साथ कठिनता और बढ़ने वाली है.