Home अरब देश दुबई में बस ड्राईवर को नकली बन्दूक से मारने की धमकी देने...

दुबई में बस ड्राईवर को नकली बन्दूक से मारने की धमकी देने वाले भारतीय व्यक्ति को पुलिस ने पकड़ा

दुबई में एक भारतीय व्यक्ति की सुनवाई चल रही है, जिसने बस ड्राईवर को डराने के लिए अपनी बेटी की खिलौना बन्दूक का इस्तेमाल किया.

क्या था मामला ? 

खलीज टाइम के अनुसार दुबई की एक अदालत में एक 35 वर्षीय भारतीय व्यक्ति पर केस दर्ज है. जिसने कथित तौर पर स्पीड में गाडी चला रहे बस ड्राईवर को धमकी दी और धमकी में ड्राईवर को डराने के लिए खिलौना बंदूक का इस्तेमाल किया था. दुबई निवासी, जो की एक तकनीशियन है, ने जांचकर्ताओं से कहा कि “भारतीय व्यक्ति ने अपनी बेटी की खिलौना बंदूक का इस्तेमाल इसलिए किया क्योंकि वह सड़कों पर गाड़ियों की गति को कम करने के लिए बस चालकों को धमकी दे रहे थे , क्योंकि वह उनकी खुद की और दूसरों की सुरक्षा के बारे में चिंतित थे.”

व्यक्ति के पास थी नकली बन्दूक 

खलीज टाइम्स के अनुसार व्यक्ति पर हालाँकि आपराधिक खतरे का आरोप लगाया गया था.

खलीज टाइम्स के अनुसार सार्वजनिक अभियोजन पक्ष के रिकॉर्ड से पता चला है की वह तीन ड्राइवरों के पास गया और बस खिड़कियों पर अपने हाथ में बंदूक के साथ उसने ड्राइवर्स को धमकी दी. यह शिकायत अल बरशा पुलिस स्टेशन पर 2 मार्च को दर्ज की गई थी.

एक पुलिस सर्जेंट ने कहा की “मै अपनी गाड़ी में बैठा था और तभी वहाँ पर तीन आदमी आये जो डर-डर कर मेरे पास आये और उन्होंने कहा की “बस में एक व्यक्ति के पास बन्दूक है जो उन्हें धमकी दे रहा है.”

क्या कहा भारतीय व्यक्ति ने ?

पुलिस ने कहा की “जब तक वह अपनी कार में नहीं आया तब तक मैं संदिग्ध का पीछा करता रहा और तब मैंने उसके ड्राइविंग लाइसेंस और कागजात देखे. घटना के बारे में पूछे जाने पर भारतीय व्यक्ति ने कहा की “बस चालकों की गति और ड्राइविंग  देख कर वह गुस्सा हो गया और दूसरों और खुद के बारे में सोचने लगा.”

उस आदमी ने पुलिसकर्मी से कहा कि वह पार्किंग स्थल में उन ड्राइवरों के पास गया और उन्हें डराने के लिए फर्जी बंदूक को उसने इस्तेमाल किया.

32 वर्षीय बांग्लादेशी ड्राइवरों में से एक ने कहा कि “वह बस के पहिये के पीछे कुछ काम कर रहा था तो तभी भारतीय व्यक्ति उसके पास आया और उसने ड्राईवर को धमकी देकर कहा की वह उसे मार डालेगा और खुद के पास बन्दूक होने का दावा भी किया. “

उसने कहा की “मै डर गया और पार्किंग स्थल में मैंने सुपरवाईजर को सूचित कर दिया और उसने मुझे फिर पुलिस के पास भेज दिया.” यह मुकदमा 20 मई तक जारी रहेगा.