Home एशिया आखिर उत्तरी कोरिया से डर गया अमेरिका

आखिर उत्तरी कोरिया से डर गया अमेरिका

उत्तर कोरिया के खिलाफ अमेरिका की बेकार धमकियों के मद्देनजर अमेरिकी अधिकारियों ने “बातचीत के माध्यम” से प्योंगयांग के परमाणु और बैलिस्टिक मिसाइल कार्यक्रमों के बारे में शांतिपूर्ण समाधान पर लौटने की घोषणा की है।

अमेरिका के रक्षामंत्री जेम्स मैटिस, विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन और खुफिया एजेंसी के निदेशक दान कोट्स ने एक सौ अमेरिकी सीनेटरों और सेना प्रमुख जोसेफ डनफोर्ड के साथ व्हाइट हाउस में असाधारण बैठक के बाद लिखा है कि हम उत्तर कोरिया पर दबाव बनाने के लिए अंतर्राष्ट्रीय समुदाय के जिम्मेदार सदस्यों को राजी करने के लिए प्रतिबद्ध हैं विशेष रूप से हम स्थिति को शांत और बातचीत के रास्ते पर लौटने के इच्छुक है।

उन्होंने कहा: “अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प की नीति उत्तर कोरिया पर बैलिस्टिक मिसाइलों और आर्थिक प्रतिबंधों के माध्यम से दबाव बनाने और हमारे सहयोगी दलों तथा क्षेत्रीय सहयोगियों के अपने परमाणु कार्यक्रमों को गिराने के राजनयिक ट्रैक पर निर्भर करती है”।

अमेरिका के प्रतिनिधी मैटिस, टिलरसन और कोट्स ने जोर दिया कि अमेरिका कोरियाई प्रायः द्वीप में शांतिपूर्ण तरीके से स्थिरता और परमाणु निरस्त्रीकरण लाने की कोशिश कर रहा है।

उन्होंने कहा: “हम इस लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए वार्ता के बारे में दृष्टिकोण जारी रखेंगे लेकिन हम अपनी आत्मरक्षा और अपने सहयोगियों की रक्षा के लिए तैयार रहेंगे। उल्लेखनीय है कि हाल के सप्ताहों में अमेरिका और उत्तर कोरिया के बीच तनाव बढ़ गया था।