Home एशिया बड़ी खबर: मशहूर क़व्वाल अमजद साबरी की हत्या के पीछे कट्टरपंथी विचारधारा

बड़ी खबर: मशहूर क़व्वाल अमजद साबरी की हत्या के पीछे कट्टरपंथी विचारधारा

दुनिया भर में प्रसिद्ध और ख़ुसूसन भारतीय उपमहाद्वीप में मशहूर पाकिस्तान के रहने वाले क़व्वाल, अमजद फरीद साबरी जिनको कुछ दिन पहले पाकिस्तान के कराची शहर में गोली मार कर हत्या कर दी गयी थी.  ताज़ा जानकारी के मुताबिक उनकी हत्या करने वालो की खबर सामने आई हैं.

अमजद फरीद साबरी एक ऐसे क़व्वाल थे जिन्होंने अपनी पूरी ज़िन्दगी पैगम्बर-ए-इस्लाम मोहम्मद सलल्लाहो अलेह वसल्लम और अहलउल बयत की शान अपनी क़व्वाली के ज़रिये बयान करते हुए गुज़ार दी.

शुरुआती रिपोर्ट के मुताबिक, अमजद साबरी पर यह इलज़ाम लगाया था कि इन्होने पैगम्बर-ए-इस्लाम मोहम्मद सलल्लाहो अलेह वसल्लम की शान में गुस्ताखी करी, जिसके कारण आतंकी जमात, तकफ़ीरी जमात ने सिद्दीकी अकबर मस्जिद में इनके क़त्ल की साज़िश रची और उसको अंजाम दिया गया.

एक रिपोर्ट के अनुसार पिछले साल रमज़ान में अमजद साबरी ने मोहम्मद सलल्लाहो अलेह वसल्लम को ‘या मोहम्मद’ और हज़रत अली को ‘या अली’ (हदीस के हवाले से दोनों ही तरह से पुकारना सही हैं) कहने के बाद से उनको कट्टरपंथी आतंकी जमात की तरफ से धमकियां मिलने लगी थी. और आतंकी देओबंदियों ने अमजद साबरी द्वारा किया गया अभियन नास्तिकता की निशानी समझा.

जिसके बाद इस आतंकी जमात ने अमजद साबरी से माफ़ी मांगने को कहा और उनसे फिरसे कालिमा पढ़ कर इस्लाम में दाखिल हो. लेकिन अमजद साबरी ने उनकी इस बात को ठुकरा दिया जिसके बाद यह हादसा हुआ.

वहीँ तालिबान ने अमजद साबरी की हत्या को सही ठहराते हुए उसकी ज़िम्मेदारी ली है गौरतलब है की तालिबान कट्टरपंथी विचारधारा वहाबियत का अनुसरण करता है. पाकिस्तान के समाचार पत्र गार्जियन के मुताबिक, पाकिस्तान में तालिबान के प्रवक्ता कारी सैफुल्लाह महसूद ने इस अमजद साबरी की हत्या की ज़िम्मेदारी लेते हुए कहा है की संगीत इस्लाम में हराम है और अमजद साबरी की कव्वाली में ईशनिंदा होती थी.

देखे विडियो –

Web-Title: Amjab sabri murdered case

Key-Words: Amjad Sabri, Mohammad, Qawwal, pakistan, karachi, Deoband, millitants