Home एशिया मोदी नहीं हैं दुनिया के बेस्ट प्रधानमंत्री, फैलाई गयी थी झूटी खबर

मोदी नहीं हैं दुनिया के बेस्ट प्रधानमंत्री, फैलाई गयी थी झूटी खबर

यदि आप 2016 की झूटी खबरों की तरफ देखे जिसको सोशल मीडिया के लगभग सभी मंच से खूब शेयर किया गया लेकिन जब इनकी वास्तविकता जानने की कोशिश की गयी तब पता चला कि इनका सचाई से कोई लेना देना नहीं हैं. सूचना फ़ैलाने के बारे में सोशल मीडिया आज के दौर में सबसे तेज़ और कारक माध्यम समझ जाता हैं.

इन्टरनेट के इस दौर अधिकांश लोग सोशल मीडिया का प्रयोग करते हैं और अपनी पसंदीदा खबरो और छुतकोलो को साझा करने में ज़रा भी देर नहीं करते हैं. लेकिन रुक जाये यदि आप भी ऐसा करते हैं तो थोड़ा रुके क्योकि ज़रूरी नहीं कि हर वायरल खबर सच हो, इसी तरह की एक खबर जो साल 2016 में बहुत वायरल की गयी वो थी भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बारे में.

सोशल मीडिया पर प्रधामंत्री नरेंद्र मोदी के बारे में ये खबर खूब वायरल हुई कि भारत के प्रधानमंत्री मोदी को दुनिया का सबसे अच्छा प्रधानमंत्री घोषित किया गया हैं और खबर में ये भी बताया गया कि ये खिताब देने वाली कोई ऐसी वैसी संस्था नहीं बल्कि संयुक्त राष्ट्र की संस्था यूनेस्को हैं.

इस खबर को सोशल मीडिया के हर मंच पर खूब वायरल किया गया हैं, बात यहाँ तक पहुँच गयी कि कई न्यूज़ चैनल ने भी इसको सच मान लिए. लेकिन इसी बीच भारत के अहमदाबाद के एक नागरिक ने इसको सच ना मन कर इसकी खोजबीन करना शुरू की.

अहमदाबाद के आरटीआई कार्यकर्ता ने पीएमओ से सूचना के अधिकार के तहत जानकारी मांगी. आरटीआई में पूछा गया कि यूनेस्को का वो सर्टिफिकेट दिखाएं जिसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को दुनिया का सबसे बढ़िया पीएम बताया गया है.

इसके अलावा यह भी पूछा गया कि किस तारीख को ऐसा ऐलान किया गया है और यूनेस्को की आधिकारिक वेबलिंक शेयर करें. इसके जवाब में पीएमओ ने बताया कि उनके पास ऐसी कोई जानकारी नहीं. प्रधानमंत्री कार्यालय के इस जबाब से ये साबित हो गया कि ये ख़बर महज अफ़वाह थी.