Home एशिया अलजवाहिरी को महफूज़ जगह छुपाये बैठा है पाकिस्तान

अलजवाहिरी को महफूज़ जगह छुपाये बैठा है पाकिस्तान

“वीक समाचार” ने 21 अप्रैल को एक रिपोर्ट में लिखा था कि अलकायदा प्रमुख एमन अल जवाहिरी जिन्हें दाइश को समाप्त करने के शोर शराबे में भुला दिया गया है, अभी भी जिहाद का दुनिया का बड़ा खिलाड़ी और अमरीका के लिए असली खतरा है।

अमरीका के राष्ट्रीय सुरक्षा मंत्री जान किली ने दावा किया है कि यह खतरा, 11 सितंबर 2001 की घटना से भी अधिक भयानक हो सकता है।

कुछ सूत्रों ने वीक समाचार से कहा है कि 2001 में अफगानिस्तान से अलकायदा को निकालने के बाद से पाकिस्तानी सरकार जवाहिरी की रक्षा कर रही है, इन सूत्रों का कहना है कि ज़वाहेरी कराची में हैं, इस संबंध में सीआईए के वरिष्ठ अधिकारी और मध्यपूर्व एव अफ़्रीक़ी मामलों के उच्च सलाहकार ब्रूस रीडल ने कहा है कि उनके कराची में होने की कोई निश्चित दस्तावेज़ नहीं है।

लेकिन लादेन के मारे जाने वाले शहर एबटाबाद से मिलने वाली दस्तावेजों से पता चलता है वह कराची ज़वाहेरी की छिपने के लिए सुरक्षित स्थान है, क्योंकि उन्हें विश्वास है कि अमरीका उन्हें कराची में नहीं पकड़ पाएगा।

रीडल ने कहा है कि: अमरीका के लिए इस शहर में कमांडो ऑपरेशन कठिन है (जैसा कि लादेन के मामले में किया गया था) क्योंकि इस शहर में परमाणु प्रतिष्ठानों, हवाई और समुद्री अड्डे मौजूद हैं, जिसके कारण यहां पर कड़ी सुरक्षा व्यवस्था रहती है और अगर अमरीका इस शहर में कोई कार्यवाई करता है तो उसकी पाकिस्तान की तीव्र प्रतिक्रिया झेलनी होगी, इसके अलावा जवाहिरी इस शहर के गरीब जनता में भी लोकप्रिय हैं और आसानी से उनकी दुकानों और घरों में आता जाता रहता है जिसके कारण अमरीका के लिए उसे पकड़ना आसान नहीं होगा।

ब्रूस रीडल के अनुसार अगर जवाहिरी अफगानिस्तान के सीमावर्ती क्षेत्र में होता तो उसे खोजना आसान होता, लेकिन कराची जैसे शहर में उन्हें खोजने के लिए मुश्किल काम है।

न्यूजवीक ने लिखा है कि ओबामा सरकार ने 2016 में अफगान सीमा के पास शव्वाल वैली में उस पर ड्रोन हमला किया पर वह इस हमले में बच गया था।

वीक समाचार ने इस गिरोह के एक व्यक्ति का हवाला देते हुए कहा: यह ड्रोन हमले में मीज़ाइल जवाहिरी के बग़ल वाले कमरे में लगा, और दोनों कमरों के बीच की दीवार गिर गई थी और इस दीवार के कुछ हिस्से उस पर भी गिरे जिससे उसका चश्मा टूट गया लेकिन वह अपनी जान बचाने में कामयाब रहा।

अलकायदा इस व्यक्ति के अनुसार (जिसने अपना नाम लेने से मना किया है): जवाहिरी जुलाई 2015 इसी घाटी में अपनी एक पत्नी और अपने सलाहकार शफी अलअदल के साथ मौजूद था।

तालिबान के पूर्व मंत्री ने कहा है कि: अब अफगानिस्तान में तालिबान के कंट्रोल वाले क्षेत्रों में अब जवाहिरी और अलकायदा को आमंत्रित नहीं किया जाता है, क्योंकि अफग़ानिस्तान के तालिबान इस समय सरकार से शांति वार्ता कर रहे हैं और वे यह नहीं चाहते कि उन्हें दुनिया के लिए खतरा समझा जाए।

वीक समाचार आगे लिखा है कि पाकिस्तान के पूर्व अधिकारी जो इस समय भी सरकार के क़रीबी माने जाते हैं ने वीक न्यूज़ को केवल इतना बताया कि जवाहिरी पाकिस्तान के एक बड़े शहर में मौजूद हैं। उन्होंने कहा: कराची में इस समूह के लाखों समर्थकों और सेना की उपस्थिति के कारण यह शहर जवाहिरी के लिए सुरक्षित स्थान है।

उन्होंने कहा है कि: उन्हें 100% विश्वास है कि ओसामा बिन लादेन का गयारवां बेटा हमजा, आईएसआई की सुरक्षा में पाकिस्तान में ही मौजूद हैं, और जवाहिरी हमजा को अपने उत्तराधिकारी के तौर पर तैयार कर रहा है।

वीक न्यूज़ ने आदिवासी क्षेत्र में जवाहिरी से मुलाकात करने वाले एक व्यक्ति के हवाले से यह खबर दी है अलक़ायदा के प्रमुख ने क़सम खाई है कि वह जीवित नहीं पकड़ा जाएगा और वह इस समय पाकिस्तान के किसी बड़े शहर में आईएसआई की निगरानी में हैं और उसकी इच्छा है कि मरने से पहले अमरीका पर एक बड़ा हमला करे।