Home एशिया पकिस्तान चाहता है ईरान के साथ व्यापारिक संबंध बढ़ाना: इमरान खान

पकिस्तान चाहता है ईरान के साथ व्यापारिक संबंध बढ़ाना: इमरान खान

इमरान ख़ान ने इस्लामाबाद में ईरान के राजदूत महदी हुनरदूस्त के साथ मुलाक़ात में कहा कि इस्लामाबाद आर्थिक आत्मनिर्भरता के लिए ईरान सहित सभी पड़ोंसियों के साथ संबंधों में विस्तार चाहता है। पाकिस्तान के हालिया संसदीय चुनाव में सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरकर सामने आने वाली तहरीके इंसाफ़ एमक्यूएम के साथ मिलकर सरकार बनाने जा रही है। इमरान ख़ान ने पड़ोसी देशों में ख़ास तौर इस्लामी गणतंत्र ईरान के साथ सहयोग में विस्तार को अपनी सरकार की प्राथमिकताओं में गिनवाया।

यह विषय कई आयाम से इस्लामाबाद सरकार के लिए अहम है। पहला यह कि पाकिस्तान की तीन देशों भारत, अफ़ग़ानिस्तान और ईरान से सीमा मिलती है और ईरान को छोड़ बाक़ी दो देशों के साथ उसके संबंध तनावपूर्ण हैं। इस वजह से पाकिस्तान ईरान को अपनी रणनीति का केन्द्र बिन्दु समझता है। दूसरे यह कि इस्लामी गणतंत्र  ईरान तेल और गैस के विशाल भंडार का स्वामी है और वह पाकिस्तान की ऊर्जा की सभी क्षेत्रों में आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए अपनी तत्परता का भी एलान कर चुका है। तीसरे यह कि ईरान का क्षेत्र में सुरक्षा व स्थिरता क़ायम करने की दृष्टि से बहुत अहम रोल है इसलिए उसकी अहमियत पाकिस्तान के लिए अधिक है। जैसा कि बहुत से हल्क़े ईरान को क्षेत्र की स्थिरता में लंगर की हैसियत से देखते हैं।

 

 

आतंकवाद से संघर्ष भी वह क्षेत्र है जो दोनों देशों के बीच सहयोग का मार्ग प्रशस्त कर सकता है और इस द्विपक्षीय सहयोग से क्षेत्र का भविष्य उज्जवल हो सकता है।