Home एशिया छह मिनट धड़कन रुकने के बाद डॉक्‍टर वापस ले आए थे जान,...

छह मिनट धड़कन रुकने के बाद डॉक्‍टर वापस ले आए थे जान, पर मौत ने दोबारा छीन ली जिंदगी

पाकिस्तान के दिग्गज क्रिकेटर हनीफ मोहम्मद गुरुवार को इस दुनिया से रुखसत कर गए. कराची के आगा खान अस्पताल में सांस लेने में परेशानी होने के बाद भर्ती हुए इस 81 साल के दिग्गज ने अस्पताल में ही दम तोड़ दिया. पाकिस्तान के डॉन न्यूज के अनुसार अस्पताल के प्रवक्ता ने हनीफ की मौत की पुष्टि की है.

वही इससे पहले भी उनकी मौत की खबर आयी थी, जिसपर पाकिस्तानी प्रधान मंत्री नवाज़ शरीफ ने दुःख जताया था. लेकिन हनीफ मोहम्मद के बेटे शोयब ने मोहम्मद ने खंडन करते हुए कहा था कि उसके पिता जिंदा है.

हालाँकि अस्पताल में भर्ती होने के बाद से उनकी दिल की धड़कन रुक गयी थे जिसके बाद डॉक्टर ने उनको मृत घोषित कर दिया था, लेकिन इसको आप चमत्कार ही कहेगे कि 6 मिनट तक धड़कन रुकने के बाद उनकी धड़कने फिरसे चलने लगी थी. लेकिन आखिरकार सांस लेने की तकलीफ के चलते हनीफ मोहम्मद दुनिया से रुखसत कर गए.

Screenshot_4

हनीफ के बेटे शोएब ने बताया कि लंग कैंसर केे कारण उन्हें सांस लेने में तकलीफ हो रही है. जिसके बाद 81 साल के हनीफ की कीमोथेरेपी कराई और 2013 में लंदन में उनकी लंग कैंसर की सर्जरी भी हुई थी. कीमोथेरेपी के बावजूद कैंसर समय के साथ बढ़ता गया, और अंत में उनकी मौत हो गयी.

आपको बता दे कि हनीफ मोहम्मद ने पाकिस्‍तान टीम के लिए 55 अंतरराष्ट्रीय टेस्‍ट मैच खेले हैं, अपनी शानदार और बेजोड़ प्रदर्शन के बाद उन्होंने टीम में सुपरस्‍टार का दर्जा पा लिया था. हनीफ मोहम्मद ने पाकिस्तान के लिए 1952-53 और 1969-70 के बीच खेले, जिसमे उन्होंने 12 शतक जड़े.