Home हेल्थ बढ़ता मोटापा बन सकता हैं लीवर कैंसर का कारण

बढ़ता मोटापा बन सकता हैं लीवर कैंसर का कारण

आजकल लोगो की दिनचर्या के कारण मोटापा एक बीमारी बनता जा रहा हैं. लोग अपना ज़्यादातर समय कंप्यूटर्स, टेलीविज़न पर गुज़ारते हैं और जंक फ़ूड का सेवन अधिक से अधिक करने लगे हैं. जिसके कारण मोटापा तेज़ी से बढ़ रहा हैं. ये मोटापा अत्यंत हानिकारक है, एक प्रकार से नही कई प्रकार से यह बीमारियों की जड़ बनता जा रह हैं.

क्या आप जानते हैं की मोटापे से या आपकी बढ़ी हुई कमर से लिवर कैंसर हो सकता हैं. मोटापा या आपकी कमर की बढ़ी हुई परिधि आपको लिवर कैंसर जैसी भयानक बीमारी दे सकती है.

कैसे मोटापा या कमर की बढ़ी हुई परिधि बन सकती हैं लिवर कैंसर का कारण:

अमेरिकन कैंसर सोसायटी के शोधकर्ता पीटर कैंपबेल ने कहा, लीवर कैंसर केवल शराब पीने और वायरस से होने वाले हेपेटाइटिस संक्रमण से नहीं होता। हमने पाया कि कमर की बढ़ी हुई परिधि, अधिक बीएमआई और टाइप2 मधुमेह भी इस बीमारी के खतरे को बढ़ा सकता हैं.

अध्ययन के अनुसार, कमर के घेरे में प्रत्येक पांच सेंटीमीटर की बढ़त से लीवर कैंसर होने का खतरा आठ फीसदी अधिक हो जाता है। जबकि बीएमआई में प्रत्येक पांच किलोग्राम प्रति वर्गमीटर की बढ़ोतरी से पुरुषों में लिवर कैंसर होने का खतरा 38 फीसदी, जबकि महिलाओं में 25 फीसदी बढ़ जाता है।

लिवर कैंसर होने के कारण

  • अत्यधिक मोटापा
  • बढ़ी हुई कमर की परिधि
  • शराब का नियमित वा अत्यधिक सेवन
  • पान मसाला, तम्बाकू, या सिगरेट का अधिक सेवन

कैंसर रीसर्च जर्नल में प्रकाशित हुए अधय्यन के अनुसार अमेरिका में किये गए 15 लाख लोगो पर सर्वे के अनुसार यह लोग लिवर कैंसर से पीड़ित नहीं थे. इनके आंकड़ों में इनकी लंबाई, वजन, कमर का घेरा, शराब पीने की आदत, तंबाकू खाने और धूम्रपान की आदत आदि अनेक जानकारियों को शामिल किया.

इस प्रकार मोटापा लिवर कैंसर होने की आशंका को और बढ़ा देता हैं . सिर्फ छरहरा शरीर वा सुंदर
दिखने के लिए ही मोटापा कम नही करना चाहिए बल्कि लिवर कैंसर जैसी भयानक बीमारियों से बचने के लिए मोटापा कम करे.

मोटापे से बचने के लिए 

नियमित भोजन हर व्यक्ति के लिए अहम है, लेकिन कुछ लोगों में अत्यधिक खान-पान की आदत से खाना उनको पोषण देने के अलावा उनका स्वास्थ्य भी बिगाड़ देता है, और धीरे-धीरे व्यक्ति गलत जीवन-शैली से जुड़े विकारों और बीमारियों से ग्रस्त हो जाता है.

आप खाने के मामले में खुद पर काबू नहीं रख पातें तो आप भूख को कम करने के लिए इन बातों पर अमल कर सकते हैं जैसे :

इलायची का चूर्ण – छोटी इलायची को पीस कर उनका चूर्ण बना लें दिन में इस चूर्ण को 2 से 4 बार एक चुटकी लें यह उपाय आपकी भूख को कम करने के साथ आपकी पाचन क्रिया को भी बेहतर करता है.

नाश्ता – रात के भोजन और सुबह के नाश्ते के बीच में 10 से 14 घंटो का अंतराल हो जाता है इस वजह से सुबह का नाश्ता ज़रूर करना चाहिए नहीं तो दिनभर कम अंतराल पर भूख लगती रहेगी और आप दोपहर में ज़रुरत से अधिक खाना खाएंगे रात के आहार और सोने के बीच ढाई से 3 घंटो का अंतराल होना चाहिए.

फल और सब्ज़ियाँ – ताज़े फल और सब्ज़ियों में विटामिन्स और फाइबर की भरपूर मात्रा होती है जबकि अन्य व्यंजनों की तुलना में कैलोरीज़ काफी कम होती है बार-बार भूख लगने पर कोई जंकफ़ूड या स्नैक्स खाने के बजाए फलों या सब्ज़ियों के सूप को खाना चाहिए.

हींग और सौंफ – खाने में हींग का प्रयोग करें और खाने के बाद सौंफ ले ऐसा करने से आपका हाज़मा अच्छा होने के साथ बीच-बीच में लगने वाली भूख पर नियंत्रण बढ़ेगा.

बाजरा- बाजरे की रोटी या खिचड़ी शरीर को उचित पोषण देती है इसके सेवन से भूख काबू में रहती है अपने आहार में बाजरा ज़रूर शामिल करना चाहिए.

हम मोटापा कम करने के लिए आजमाया और प्रयोग किया गया नुस्खा आपके लिए लाये है ये आपके अधिक वजन को तेजी से घटाता है बच्चों के मोटापे के लिए भी ये कामयाब नुस्खा है आज कल मोटापे के आँकड़े देखने पर पता चलता है कि एक तिहाई से जादा लोग इसका शिकार हैं.

मोटापा कम करने का यह घरेलु अचूक उपाय है

आवश्यक सामग्री
1 गुग्गुल(Guggul)- 140 ग्राम (Commiphora wightii)
2 विलायिती इमली (Camachile)-105 ग्राम (इसे जंगल जलेबी, अग्रेजी इमली, गंगा इमली भी कहते है।)
3 त्रिफला (Triphala)- 105 ग्राम
4 यष्टिमधु (Liquorice)-70 ग्राम (इसे मुलेठी भी कहते है।)
5 गिलोय (Tinospora)- 70 ग्राम
6 नागरमोथा (Nut grass)- 70 ग्राम (Cyperus Scariosus)
7जीरा (cumin)- 70 ग्राम
8 शुंठी(Shunti)- 70 ग्राम (सोंठ)

बनाने की विधि
उपरोक्त सभी औषिधियों को बारीक-बारीक कूट-पीस ले और महीन छन्नी से छान कर किसी डिब्बे में बंद कर के रख ले-आपकी ये सामग्री कूट-पिस लगभग 700 ग्राम तैयार हो जायेगी.

सेवन करने का तरीका

प्रतिदिन आपको इसमें से दस ग्राम सुबह खाने से पहले गुनगुने पानी से और शाम को खाने के बाद गुनगुने पानी से लेना है बीस ग्राम के हिसाब से एक माह में 600 ग्राम दवा होगी तथा ये एक माह से उपर के लिए हो जायेगी तब तक आपका वजन लगभग आठ से दस किलो से जादा कम हो जाएगा.

पहले माह तेजी से घटता है लगभग छ: से सात किलो फिर थोडा कम घटेगा आप इसे आगे भी जारी रख सकते है जब आपको लगे कि आपका वजन और चर्बी अब आपके लिए पर्याप्त है दवा को बंद कर सकते है.

हाल ही में वैज्ञानिकों ने शोध के आधार पर कहा है कि सुबह नाश्ते से पहले कसरत करने से भी मोटापा दूर हो जाता है.
सप्ताह में एक दिन उपवास जरूर रखें और उपवास के दिन दूध, सूप, जूस और नींबू पानी का सेवन करते रहें.

Previous article“अमरीका में नया हिटलर गद्दी पर बैठ गया है” : बराक ओबामा
Next articleसफर में वोमिटिंग और जी घबराने से है परेशान, तो यहाँ पढ़े इसका इलाज