Home मिडिल ईस्ट वेस्टबैंक के बाद अब फिलिस्तीनियों के सूसिया गांव पर यहूदी कट्टरपंथ की...

वेस्टबैंक के बाद अब फिलिस्तीनियों के सूसिया गांव पर यहूदी कट्टरपंथ की नज़र

संयुक्त राष्ट्र अमेरिका और यूरोपीय यूनियन ने इज़राइली मंत्री मंडल, प्रधान मंत्री नेतन्याहू और इज़राइल के विदेश मंत्रालय को पत्र लिख कर चेतावनी दी हैं कि यदि फिलिस्तीन के गांव सूसिया को ध्वस्त किया गया तो उस पर कड़ी प्रतिक्रिया प्रकट की जाएगी. स्थानीय अख़बार हारित्स के हवाले से यह खबर सामने आयी हैं.

यह मामला मीडिया के नज़रो में तब आया जब फिलसिटीनी अधिकारियो ने सूसिया नामक पूरे गांव को तबाह करने की योजना के बारे में शिकायत दर्ज कराई. हारित्स अख़बार ने वरिष्ठ इज़राइली अधिकारी के हवाले से लिखा है कि, “उच्च स्तर पर अमरीका और यूरोपीय संघ को यह विश्वास दिलाया गया है कि फिलहाल सूसिया गांव को तबाह करने का कोई इरादा नहीं है.”

इज़राइल की यहूदियों की कट्टरपंथी गुट रग़ाफीम ने सुप्रीम कोर्ट में अपील दायर करके मांग की है कि सूसिया गांव से फिलिस्तीनियों को निकाला जाए क्योंकि वह लोग जिस ज़मीन पर बसे हैं वह उनकी नहीं है. जिसके चलते यहूदी कट्टरपंथ फिलिस्तीनियों के घरो को उजाड़ने की कोशिश में लगे हुए हैं.

इज़राइल के सुप्रीम कोर्ट ने इस अपील पर सुनवाई मंज़ूर कर ली है और सुनवाई के बाद देश के सुरक्षा मंत्री को आदेश दिया है कि वह सूसिया गांव को खाली कराने के मामले पर सरकार का रुख स्पष्ट करें.

आपको बता दे कि इस गांव के बहुत से घरों को इज़राइली हुकूमत ने गिरा दिया है और इन घरों में रहने वाले फिलिस्तीनी,अपने घरों को गिराए जाने के बाद गुफाओं और तम्बुओ में रह रहे हैं किंतु वह बिजली, पानी और सड़क की सुविधा से वंचित हैं.

रिपोर्ट के मुताबिक यदि यहूदी कट्टरपंथ अपने मक़सद में कामयाब होते हैं तो दस हज़ार से अधिक फिलिस्तीनी बेघर हो जाएंगे.