Home मिडिल ईस्ट वकीलों के समर्थन में बहरीन के मानवाधिकार केंद्र ने उठाई आवाज़

वकीलों के समर्थन में बहरीन के मानवाधिकार केंद्र ने उठाई आवाज़

बहरैन के मानवाधिकार संगठन ने अपने ट्विटर के आधिकारिक पेज पर “नबील रजब” के मुकद्दमे की शूरूआत की पूर्व संध्या पर खलीफा शासन के अमानवीय प्रथाओ की आलोचना करते हुए बहरैन के सक्रिय कार्यकर्ता की रिहाई की मांग की।

विदेशी समाचार एजेंसी के अनुसार बहरैन के मानवाधिकार केंद्र ने सामाजिक नेटवर्क ट्विटर के अपने आधीकारिक पेज पर नबील रजब के खिलाफ आरोपो को निराधार बताते हुए बहरैन के सक्रिय कार्यकर्ता की रिहाई की मांग की।

इस मानवाधिकार केंद्र ने नबील रजब को पहले भी मानवाधिकार संरक्षक बताते हुए लिखा उनकी स्वास्थ्य स्थिति के बारे मे अपने विश्वासो के कारण जेल मे बंद रहने पर चिंतित है।

बहरैन के मानवाधिकार केंद्र ने पहले भी नबील रजब की शारीरिक और मानसिक स्थिति के कारण आले खलीफा के सुरक्षा तंत्र द्वारा नबील रजब को एकान्त कारवास मे भेजने पर बल दिया था।

प्रकाशित होने वाली रिपोर्टो के अनुसार बहरैन के इस वकील की सर्जरी हुई लेकिन आले खलीफा सरकार के जेल अधिकारीयो ने उनसे किसी को मिलने की अनुमति नही दी।

मानवाधिकार केंद्र ने बताया कि चिकित्सको ने नबील रजब के स्वास्थ की देखभाल पर जोर दिया है जबकि आले खलीफा प्रशासन उनके स्वास्थ्य की अनदेखी करते हुए नबील रजब के लिए प्रतिकूल परिस्थितिया पैदा कर रहा है।

बहरैनी मानवाधिकार केंद्र ने आले खलीफा न्यायिक प्रणाली से नबील रजब पर लगाए गए सभी राजनीतिक आरोपो को वापस लेने की बात कही है।

बहरैन की आले खलीफा सरकार के सुरक्षा अधिकारीयो ने 13 जून 2016 को बहरैनी वकील नबील रजब को उनके निवास स्थान से गिरफ्तार करने के साथ उनका मोबाइल, कंप्यूटर और लेपटॉप जब्त कर लिया था