Home एशिया रोहिंग्या के लिए मुस्लिम देशों के एक होने का किया था अह्वान,...

रोहिंग्या के लिए मुस्लिम देशों के एक होने का किया था अह्वान, बदले में बांग्लादेश ने कहा ‘शुक्रिया’

source: Arab News

बांग्लादेश के तुर्की के दूत ने मंगलवार को कहा है कि रोहिंग्या शरणार्थियों की मदद करने वाला पहला मुस्लिम देश तुर्की है. बांग्लादेश ने तुर्की का शुक्रिया अदा किया.

राजदूत एम. अल्लामा सिद्दीकी ने एक प्रेस मीटिंग में कहा, “मुस्लिम उम्माह [राष्ट्र] के हितों को बढ़ाने और रोहिंग्या  संकट पर बांग्लादेश के लिए उनके समर्थन को बढ़ाने के लिए तुर्की की सक्रिय भूमिका और सहयोग की सराहना की.” उन्होंने तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तय्यिप एर्दोगान का शुक्रिया अदा करते हुए कहा कि एर्दोगान ने ही इस्लामी सहयोग संगठन (OIC) की बैठक में रोहिंग्या शरणार्थियों की समर्थन में आवाज़ उठायी, पिछले साल सितंबर में हुई थी.

बढते संकट को देखते हुए, राष्ट्रपति एर्दोगान ने दुनिया भर के मुसलमानों आग्रह किया कि, वह रोहिंग्या के मुसलमानों की मदद के लिए सामने आयें. कई क्षेत्रीय संकटों और चुनौतियों का सामना करने के लिए सभी मुस्लिम देशों को एकजुट होना होगा. एर्दोगान ने कहा कि, सभी मुस्लिम देशों को एक साथ मिलकर काम करना चाहिए ताकि वे रोहंग्या मुसलमानों के दर्द को खत्म कर सकें.

source: Voice Of America

संकट में बांग्लादेश की भूमिका पर नजर डालते हुए राजदूत सिद्दीकी ने कहा कि बांग्लादेश ने लाखों जबरन विस्थापित राखिने मुसलमान शरणार्थियों को छत की है और वह रोहिंग्या की मदद भी कर रहा है. वर्तमान में, बांग्लादेश में रह रहे लगभग 10 लाख रोहिंग्या मुस्लिम हैं. दूत ने कहा, अब बांग्लादेश के लिए दोनों आर्थिक और जनसंख्या के लिए बड़ी समस्याएं पैदा होने लगी है. जिसका जल्द से जल्द निपटान करने की ज़रूरत है.

सिद्दीकी ने जोर देते हुए कहा कि म्यांमार इस समस्या को दूर करने के लिए जरूरी कदम उठा रहा है.  म्यांमार के अधिकारियों ने रोहंग्या मुस्लिमों के प्रत्यावर्तन के लिए एक समझौते पर हस्ताक्षर भी किए है.

source: Reuters

उन्होंने कहा कि, रोहिंग्या शरणार्थियों को जल्द से जल्द म्यांमार भेजने के लिए काम किया जा रहा है. शुरुआत में हर  हफ्ते 1,500 शरणार्थियों को वापस भेजने की उम्मीद है.  दो सालों में करीब 8,00,000 लोगों की वापसी को पूरा करने की उम्मीद की जा रही है.

Previous articleअब न्याय मंत्रालय में भी नज़र आएँगी सऊदी महिला, 300 पदों की भर्ती
Next articleकनाडा- न्यू ब्रंसविक एक्सप्रेस की फिर से हुई श्रम बाजार में एंट्री, नौकरियों के लिए करें आवेदन