Home मिडिल ईस्ट इस्राईल में हाई स्कूल के बच्चों को जासूसी की ट्रेनिंग दी जाती...

इस्राईल में हाई स्कूल के बच्चों को जासूसी की ट्रेनिंग दी जाती है

अतिग्रहणकारी इस्राईल में हाई स्कूल के बच्चों को ईरान के ख़िलाफ़ जासूसी की ट्रेनिंग दी जाती है। अतिग्रहणकारी इस्राईल में फ़ारसी ज़बान सिखाने का सिर्फ़ एक स्कूल है, जहां ऐसा पाठयक्रम सिखाया जाता है जिससे ज़ायोनी शासन की गुप्तचर एजेंसियों के एजेंट को ईरान के ख़िलाफ़ जासूसी में मदद मिलती है।

यह पाठ्यक्रम ज़ायोनी सेना के रिटायर हो चुके जनरल पिनी श्मिलोविच ने तय्यार किया है जिसका शीर्षक है “ईरान, सुरक्षा और गुप्तचर” कार्यक्रम। यह कोर्स पेटा तिकवा शहर में स्थित बेन गोरियन हाई स्कूल में पढ़ाया जाता है। यह कोर्स ईरानी संस्कृति और सरकारी तंत्र को समझने में मदद देता है।

वॉयस ऑफ़ अमरीका के अनुसार, इस कोर्स के ज़रिए 16 और 17 साल के किशोरों के मन में यह भरा जाता है कि ईरान उन गुटों का समर्थन करता है जो इस्राईल के ख़िलाफ़ हैं और इस्लामी गणतंत्र पूरे पश्चिम एशिया क्षेत्र में सांप्रदायिक टकराव के लिए ज़िम्मेदार है।

ज़ायोनी शासन ने 2014 में इस कोर्स को मंज़ूरी दी और अब तक फ़ारसी बोलने वाले 50 छात्रों को इस कोर्स की ट्रेनिंग मिल चुकी है जिनमें से 20 छात्र ज़ायोनी सेना की गुप्तचर सेवा में शामिल हो चुके हैं।

इस्राईल के हाई स्कूलों में आम तौर पर विदेशी भाषा में सिर्फ़ अरबी विकल्प होती है जबकि अंग्रेज़ी ज़बान अनिवार्य होती है।