Home मिडिल ईस्ट सीरिया पर बढ़ते हुए नए हवाई हमलों के साथ बढ़ता तनाव

सीरिया पर बढ़ते हुए नए हवाई हमलों के साथ बढ़ता तनाव

इबरी भाषा के समाचार पत्रों और न्यूज़ चैनलों ने मैदान की महत्वपूर्ण ख़बरों विशेषकर सीरिया के साथ तनाव और दक्षिणी ग़ाज़ा पट्टी में अराजकता को प्रमुखता के साथ कवर किया है।

इबरी समाचार पत्र मआरयिफ़ ने इस बारे में लिखाः ज़ायोनी युद्धक विमानों ने सोमवार की सुबह को सीरिया में नए हमले किए हैं, इन हमलों में हिज़्बुल्लाह लेबनान को निसाना बनाया गया है।

इबरी भाषा के चैनल दो ने रिपोर्ट दीः हिज़्बुल्लाह के हथियार और संसाधन के एक काफ़िले पर जो सीरिया की तरफ़ जा रहा था को हवाई हमले में निशाना बनाया गया है, लेकिन माआरयिफ़ ने लिखा है कि हवाई हमले सैन्य छावनियों और वायु रक्षा प्रणाली के विरुद्ध किए गए हैं।

लेबनान के साथ उत्तरी सीमा पर चल रहे तनाव के बारे में हाआर्तज़ समाचार पत्र ने राजनीतिक विशेषज्ञ और संवाददाता आमूस हारईल के हवाले से लिखाः लेबनान और सीरिया के साथ तनाव बढ़ रहा है और इस्राईल की शक्ति कम हो रही है।

इस इस्राईली विशेषज्ञ का मानना है कि इस्राईल की शक्ति कम होने का कारण यह है कि उत्तर और दक्षिण अराजकता को देखते हुए नेतनयाहू सरकार बड़े पैमाने पर युद्ध नहीं करना चाहती है।

दूसरी तरफ़ संयुक्त राष्ट्र में ज़ायोनी शासन के दूत दानी दानून ने पिछले दिनों इस्राईल द्वारा सीरिया पर किए गए हमले के बारे में कहाः “इस्राईल अपने नागरिकों की सुरक्षा और शांति के लिए जो सही समझेगा वह आगे भी करेगा।”

ज़ायोनी सेना के कुछ बिना पायलट वाले विमानों ने रविवार को भी सीरिया के अलक़ुनैतरा में एक बस को निशाना बनाया था, सीरिया की सेना ने एलान किया है कि इस हमले में एक राष्ट्रीय रक्षा के कमांडर शहीद हुए हैं।

इसके अतिरिक्त शुक्रवार के दिन भी इस्राईल के युद्धक विमानों ने सीरिया पर हमला किया था जिसमें पहली बार प्रतिक्रिया दिखाते हुए सीरिया की वायु रक्षा प्रणाली ने युद्धक विमानों पर मीज़ाइल दाग़े थे। इस कार्य ने क्षेत्र के घटनाक्रम में बहुत भारी बदलाव ला दिया है। इस्राईल द्वारा जारी लगाता हलमों पर बहुत दिनों तक चुप रहने के बाद सीरियन बलों ने चुप्पी तोड़ कर अब मुक़ाबला करने और विमानों पर सीधे हमला करने की रणनीति अपना ली है।

इस बारे में मआरयिफ़ सामाचार पत्र ने लिखाः सीरिया पर हवाई हमलों के साए में उत्तीय सीमा पर तनाव दिन ब दिन बढ़ता जा रहा है, और इस्राईल को किसी भी प्रकार की प्रतिक्रिया के लिए तैयार रहना चाहिए।

दक्षिणी सीमा और इस्राईली सेना के साथ ग़ाज़ा पट्टी में झड़पों के साथ ही ज़ायोनी शासन ने रविवार को व्यापक पैमाने पर सैन्य अभ्यास शुरू कर दिया है, इस्राईली सेना की तरफ़ से यह एलान क्षेत्र में जारी हालिया संकट के बाद आया है।

इस्राईल का यह सैन्य अभ्यास ग़ाज़ा पट्टी के साथ युद्ध के लिए किया जा रहा है, और हज़ारों रिज़र्व सैनिकों को ग़ाज़ा पट्टी के के पास के क्षेत्रों में इसीलिए लगाया गया है।

इबरी भाषा की 0404 न्यूज़ एजेंसी ने इस बारे में कहाः यह नए अभ्यास बुधवार तक जारी रहेंगे, इन अभ्यासों में भारी हथियारों और सैन्य गाड़ियों का प्रयोग किया जाएगा।

ग़ाज़ा पट्टी की तरफ़ से मीज़ाइल हमलों के जवाब में ज़ायोनी युद्धक विमानों ने ग़ाज़ा पट्टी पर कई बार वायु हमला किया है।

2014 में ज़ायोनी शासन द्वारा ग़ाज़ा पट्टी पर भयानक हमले के बाद, इस आक्रमणकारी शासन ने ग़ाज़ा पट्टी की सीमा पर प्रतिरोधी बलों द्वारा सेना या इस्राईली क़ब्ज़े वाली कालोंनियों पर किसी भी प्रकार के हमले को रोकने के लिए बड़े पैमाने पर धरती, वायु, और जब अभ्यासों को बढ़ा दिया।