Home मिडिल ईस्ट ईरान सरकार ने एक दिन में दी 20 सुन्नियों को फांसी

ईरान सरकार ने एक दिन में दी 20 सुन्नियों को फांसी

ईरान में बीस सुन्नी कैदियों को एक साथ दे दी गयी फ़ासी

एमनेस्टी इंटरनेश्नल के मुताबिक शिया बहुल देश ईरान में पिछले साल करीब 977 लोगों को फांसी दी गई थी.मानवाधिकार संगठनों ने फांसी दिए जाने की निंदा करते हुए कहा है कि इन पर चलाए मुकदमे अन्यायपूर्ण थे.

अमरीका स्थित इंटरनेश्नल कैंपेन फ़ॉर ह्यूमन राइट्स ने कहा है कि फांसी पर लटकाए गए मुजरिम शाहरम अहमदी ने दावा किया था कि, उन पर जिस कबूलनामे के आधार पर मुकदमा चला वो उनसे जबरन लिया गया था.

संस्था का कहना है कि किसी को भी फांसी से पहले अपने परिवारवालों से मिलने नहीं दिया गया.पिछले साल एमनेस्टी इंटरनेश्नल ने कहा था कि ईरान में फांसी के मामलों में बढ़ोतरी हुई और यहां की अदालतें अक्सर “निष्पक्ष और स्वतंत्र नहीं होती हैं”.

संस्था के अनुसार पिछले साल ईरान दुनिया का दूसरा ऐसा देश था जहां सबसे अधिक लोगों के फांसी दी गई. चीन में पिछले साल 1000 से अधिक लोगों को फांसी दी गई थी.

एमनेस्टी इंटरनेशनल के अनुसार ईरान के बाद, पिछले साल पाकिस्तान में 326 लोगों को और सऊदी अरब में 158 लोगों को फांसी दी गई थी

वही ईरान की आधिकारिक रिपोर्ट कुछ इस तरह इस फांसी को बयान कर  रही  है 

शिया प्रबल देश ईरान ने कई हत्याओं को अंजाम देने और देश की राष्ट्रीय सुरक्षा को नुकसान पहुंचाने के जुर्म में कैद किए गए 20 ‘आतंकवादियों’ को फांसी दे दी गयी हैं. गुरुवार को ईरान की मीडिया ने इस बात की जानकारी दी.

प्राप्त सूचना अनुसार देश के एक न्यूज़ चैनल ने प्रोसिक्यूटर जनरल मोहम्मद जावद मोंताजेरी के हवाले से बताया कि, “इन लोगों ने कई हत्याओं को अंजाम दिया, औरतों और बच्चों का कत्ल किया, विध्वंस किया और देश की सुरक्षा के खिलाफ काम किया और कुछ कुर्द क्षेत्रों में सुन्नी धार्मिक नेताओं की हत्या भी की.”

उन्होंने बताया कि, इन सभी हत्यारो को मंगलवार को सज़ा दी गयी हैं.