Home मिडिल ईस्ट आइएसआइएस ने फिर जारी किया दो लोगों का सिर कलम करते हुए...

आइएसआइएस ने फिर जारी किया दो लोगों का सिर कलम करते हुए विडियो

मिस्र के सिनाई इलाके में आइएसआइएस (ISIS) ने 2 लोगों का सिर कलम करते हुए एक विडियो पोस्ट किया है. इस विडियो में मारे गए लोगों के लिए आइएसआइएस का कहना है कि ये लोग जादू-टोना और काले जादू का अभ्यास करते थे. इसी गुनाह के लिए उन्हें सजा दी गयी है.

आइएसआइएस के द्वारा अक्सर इस्तेमाल किये जाने वाले एक टेलीग्राम चैनल पर आइएसआइएस ने विडियो अपलोड किया है. इस विडियो में दिखाया गया है कि उत्तरी सिनाई में, जहाँ आइएसआइएस ने कई वर्षों तक विद्रोह किया था, हस्बाह नाम से धार्मिक पुलिस इकाई का गठन किया. ये बीहड़ विरल आबादी वाले इजराइल, गाज़ा और स्वेज़ नहर की सीमाओं के बीच स्थित है.

और पढ़ें: यमन में गंभीर अकाल और भुखमरी का सामना कर रहे लोग

इस घटना पर मिस्र के सैन्य या आतंरिक मंत्रालय से कोई टिप्पणी उपलब्ध नहीं हो पाई है. विडियो में दो अधेड़ आदमी नारंगी जम्पसूट में दिखाई देते हैं. उन्हें एक काली वैन से बाहर लाया जाता है. दोनों आदमियों को रेगिस्तान में लाकर उनका सिर काट दिया जाता है. फिर एक आदमी शरिया अदालत द्वारा दिया गया बयान पढता है जिस में कहा गया कि उन्हें जादू-टोना, भविष्य बताना, काला जादू, बहुदेववाद आदि की निंदा करता है.

आइएसआइएस सूफीवाद के अनुयायियों के लिए जादूगर और पाखंडी आदि शब्दों का उपयोग करता है. 2013 से युद्ध तेज़ होने के बाद से आइएसआइएस ने सैकड़ों सैनिकों और पुलिसवालों को मार डाला है. लेकिन विडियो से पता चलता है कि आइएसआइएस नागरिकों को निशाना बनाने के लिए अपनी गतिविधियों का विस्तार कर रहा है.

इसमें एक व्यक्ति को ईश्वर को धन्यवाद देते सुना जा सकता है. वो कहता है कि ईश्वर ने सिनाई में इस्लामिक स्टेट के सिपाहियों को सभी काफिरों, धर्मत्यागियों और ईर्ष्यापूर्ण यहूदियों के बावजूद इस्लाम की स्थापना करने की अनुमति दी है. ये विडियो इस तथ्य के लिए भी उल्लेखनीय है कि इसमें बोलने वाला शख्स अपने चेहरा ढंके हुए नहीं है, इस विडियो में सिपाहियों को सिगरेट और ड्रग्स से भरे ट्रक जब्त करते और उन्हें जलाते हुए दिखाया गया है.

वे चौकस बिन्दुओं पर वाहन चालकों को धार्मिक सलाह देते और सूफी सभाओं में छापा मार कर लोगों को गिरफ्तार करते हैं. फिर उन लोगों को एक धार्मिक उपदेश देकर एक दस्तावेज़ पर दस्तखत करने के लिए कहा जाता है जिसमें लिखा होता है कि वे पश्चाताप करेंगे. इन लोगों को टीवी और सॅटॅलाइट दिश भी तोड़ते देखा जा सकता है. मकबरों को तोड़ते और इस्लामिक दफ़न कानूनों के खिलाफ जाते हैं. तस्करी के आरोपी आदमी को वे छड़ी से मारते हैं. वे उन सभी जगहों को भी नष्ट कर रहे हैं जो सूफी स्थल कहलाते हैं.

आईएसआईएस ने सीरिया और इराकी इलाकों में इसी तरह की धार्मिक पुलिस इकाइयां स्थापित की हैं. मिस्र की शाखा ने पहली बार सुरक्षा बलों को पार करते हुए अपने लक्ष्यों को विस्तारित करने का संकेत दिखाया, जब दिसंबर में उसने काइरो के सेंट मार्क कैथेड्रल के पास एक चर्च को बंदी बना दिया था. इस जगह को उन्होंने बम से उड़ा दिया था. इस हमले में 28 लोग मारे गए थे.

फ़रवरी में आतंकियों ने मिस्र के ईसाईयों, जो वहां की सबसे बड़ी इसी आबादी है, को एक विडियो के ज़रिये सबका नाम लेकर धमकी दी जिसमें कहा गया कि या तो वे सिनाई छोड़ दें या मरने को तैयार रहे. चर्च के अधिकारिक सूत्र और मानाधिकार समूह बताते हैं कि एक ही हफ्ते के भीतर उन्होंने 7 ईसाईयों को मार डाला. जिससे बाकी इसाई डर कर भाग जायें.

web title – ISIS releases video of two people beheaded

paragraph – In the Sinai area of Egypt, ISIS has posted a video titling two people’s heads. For those killed in this video, the ISIS says that they used to practice magic and black magic.