Home मिडिल ईस्ट यमन में फ़ैल रही हैजे की महामारी, 115 मरे, हज़ारों मरने की...

यमन में फ़ैल रही हैजे की महामारी, 115 मरे, हज़ारों मरने की कगार पर

यमन के विषय में अंतर्राष्ट्रीय रेड क्रॉस समिति ने अपने एक बयान में कहा है कि यमन में हैज़े से कम से कम 115 लोगों की मौत हो चुकी है और हैज़े के हज़ारों दूसरे रोगियों पर मौत का ख़तरा मंडरा रहा है।

रेड क्रॉस के अधिकारी डोमेनिक स्टीलहार्ट ने रविवार को सनआ में प्रेस कॉन्फ़्रेंस में कहा कि यह बीमारी यमन में फैल चुकी है और 27 अप्रैल से 13 मई के बीच 115 लोगों की इस बीमारी से मौत हुयी है। उन्होंने कहा कि इस दौरान यमन के 14 प्रांतों में हैज़े के संदिग्ध 8500 से ज़्यादा मामलों की रिपोर्ट मिली हैं।

रेड क्रॉस के अधिकारी ने कहा कि यमन के अस्पताल क्षमता से ज़्यादा हैज़े के मरीज़ों से भरे हुए हैं। हर एक बेड के लिए 4 रोगी हैं। ऐसे बीमार भी हैं जिनका खुले आसमान यहां तक कि गाड़ियों के भीतर एलाज चल रहा है।

यूनिसेफ़ की एक अधिकारी शरीना वारकी ने कहा कि सनआ के सबईन अस्पताल का गलियारा भी मरीज़ों से भर गया है। उन्होंने यमन में हैज़े के प्रसार को बहुत गंभीर बताया। शरीना वारकी ने कहा कि हैज़े के ऐसे मामले भी दिखने में आए कि एक ही परिवार के सभी लोग इससे ग्रस्त थे।

राजधानी सनआ के सबईन अस्पताल के अधिकारी हुसैन अलहद्दाद ने भी कहा कि स्थिति बहुत बुरी है। हैज़े से ग्रस्त बच्चों की संख्या बहुत ज़्यादा है, अस्पताल में पर्याप्त मात्रा में बेड नहीं हैं। इन हालात से निपटने के लिए अस्पताल में पर्याप्त संख्या में डॉक्टर भी नहीं हैं। संयुक्त राष्ट्र संघ ने कहा है कि सिर्फ़ कुछ चिकित्सा केन्द्र काम कर रहे हैं और यमन की दो तिहाई जनता के पास पीने का साफ़ पानी नहीं है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भी यमन के मौजूदा हालात को दुनिया में मानवीय दृष्टि से सबसे बुरी स्थिति कहा है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कुछ समय पहले यमन में हैज़ा फैलने की ओर से चेतावनी दी थी। ज्ञात हो कि 2 साल से ज़्यादा समय से यमन पर सऊदी अरब का अतिक्रमण जारी है। सऊदी अरब के हमलों में यमन के ज़्यादातर स्वास्थ्य केन्द्र तबाह हो चुके हैं।