Home मिडिल ईस्ट यमन में गंभीर अकाल और भुखमरी का सामना कर रहे लोग

यमन में गंभीर अकाल और भुखमरी का सामना कर रहे लोग

चीनी सरकारी टेलीविजन के अनुसार, सऊदी अरब और गठबंधन सेनाओं द्वारा यमन पर हमले के दो साल होने पर (एफएओ) ने घोषणा की है कि 17 लाख यमनी नागरिक गंभीर अकाल और भुखमरी का सामना करना पड़ रहा है।

खाद्य सामग्री की कमी यमन में बड़ी समस्या है। यमन की ज़रूरत की 90% खाद्य सामग्री बाहर से आयात किया जाता है, और अब इस देश में आयात पर प्रतिबंध के कारण अब केवल 3 से 4 महीनों तक का ही गेहूं बाकी बचा है।

यह आंकड़ा जून 2016 की तुलना में इक्कीस प्रतिशत बढ़ गया हैं, दो लाख यमनी बच्चे कुपोषण से पीड़ित हैं, और दूसरी तरफ़ खाद्य सामग्री की कमी के कारण उनकी कीमतों में भी वृद्धि हुई है।

यमन में मानवीय मामलों के समन्वय के लिए संयुक्त राष्ट्र कार्यालय के रीज़ीडिंट प्रतिनिधि «मैक गोलडरिक» ने इस बारे में कहा है: “मेरी तरह आप भी अच्छे से जानते हैं कि खाद्य सामग्री की कमी उनकी क़ीमतें पेट्रोल संकट लोगों के जीवन पर बहुत प्रभाव डालता है”।

और इस देश में चिकित्सा सुविधाओं की कमी भी एक मुश्किल है, हवाई हमलों, और भोजन की कमी की वजह से बीमारों की संख्या में वृद्धि हुई है लेकिन बिजली और संसाधनों की कमी की वजह से देश के 40 से 50% अस्पताल ही कार्य कर रहे हैं।

यमन में रेड क्रॉस अंतरराष्ट्रीय समिति के प्रतिनिधिमंडल के प्रमुख इलैकज़ेन्डर ने इस बारे में कहा: अस्पतालों बिजली पैदा करने के लिए जनरेटरों में ईंधन उपलब्ध नहीं है।

हालांकि कुछ वैश्विक संस्थाएं यमन में मदद करने की कोशिश कर रही हैं लेकिन देश के वीरान हो चुके एयरपोर्ट और समुद्री रास्तों में रुकावटों की वजह से राहत कार्य में मुश्किल हो रही है