Home मिडिल ईस्ट इराक़, नाइजीरिया और अफ़ग़ानिस्तान के बाद अब तुर्की में बच्चो को बनाया...

इराक़, नाइजीरिया और अफ़ग़ानिस्तान के बाद अब तुर्की में बच्चो को बनाया गया आत्मघाती हमलावर

बीते सप्ताह की बात हैं जब इराकी पुलिस ने एक डरे हुए १६ वर्ष की कम आयु वाले एक बच्चे को किरकुक शहर से पकड़ा गया , तलाशी के बाद उसके पास से करीब दो किलोग्राम विस्फोटक पदार्थ बरामद होता हैं. जिसके बाद उसको हिरासत में ले लिया जाता हैं.

इसी तरह बीते शनिवार की बात हैं जब एक किशोर अवस्था के आत्मघाती हमलावर ने तुर्की के गाज़ीअंटेप शहर के एक विवाह समारोह में शामिल हो कर खुद को बम से उड़ा लिया जिसमे करी 50 लोगो की मौत हो गयी.

ऐसा तुर्की में पहली बार देखा गया कि आतंकी अपने नापाक इरादों को अंजाम देने के लिए नाबालिग लड़को को हथियार बना रे हैं.

अफगानिस्तान की बात करे तो तालेबान काफी लंबे समय से नाबालिक आत्मघाती हमलावरों का इस्तेमाल करता चला आ रहा हैं. 2012 की बात हैं जब तालेबान काबुल में बम हमला करने के लिए एक 14 वर्षीय बच्चे को इस्तेमाल किया था, जिसमे करीब छह लोगो की मौत हो गयी थी.

विशेषज्ञओ का मानना हैं कि आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट सहित दुसरे आतंकी गट भी इसी रणनीती को अपना रहे हैं. ऐसी ही रणनीती नाइजीरिया का आतंकी संगठन बोको हराम भी अपना रहा हैं, नाबालिग लड़को और लड़कियों को अगवा कर उनसे हमले करवाता हैं.

सीरिया और मध्य-पूर्व के संयुक्त राष्ट्र अंतर्राष्ट्रीय बाल आपात निधि (यूनिसेफ) के क्षेत्रीय प्रवक्ता जूलिएट टॉम के अनुसार “सीरिया सहित पूरे क्षेत्र में बच्चो की भर्ती बढ़ती जा रही हैं. बच्चो को अगवाह कर उनको भारी गन मशीन, बॉम्बिंग और आत्मघाती हमले करने की ट्रेनिंग दी जाती हैं.”

Web-Title: This time in turkey, terrorist used children as suicide bomber

Key-Words: Turkey, Terrorist, Children, Suicide Bomber