Home स्पेशल रिपोर्ट सऊदी अरब में तेज़ी से बढ़ रही है बेरोज़गारी, मिला 5वां स्थान

सऊदी अरब में तेज़ी से बढ़ रही है बेरोज़गारी, मिला 5वां स्थान

नोट – यह अध्ययन मिडिल ईस्ट तथा मुस्लिम देशों में बेरोज़गारी से सम्बंधित है.

युवा बेरोजगारी (15-24 आयु के व्यक्ति) कई अरब देशों के लिए चिंता का एक कारण है. इंटरनेशनल लेबर आर्गेनाईजेशन (आईएलओ) के एक अध्ययन के अनुसार, युवाओं की बेरोजगारी दर 1991 और 2017 के बीच में तेज़ी से  बढ़ी है.

वर्ल्ड न्यूज़ अरेबिया आपके लिए लेकर आया है आज कुछ ऐसी ही कीमती जानकरी जिसे पढने के बाद आपको एक बार में यकीन नही होगा की इन देशों में भी बेरोज़गारी की मार देखी जा रही है. वहीँ मिडिल ईस्ट तथा अरब देशों में कुछ देश ऐसे भी है जो पिछले कुछ दशकों से अन्य देशों के नागरिकों को रोज़गार मुहैया करा रहे है लेकिन पिछले कुछ सालों में उनकी अर्थव्यवस्था की काफी हद तक प्रभावित हुई है.

1. लीबिया

1991 में लीबिया के युवाओं की बेरोजगारी दर 44.8 प्रतिशत से बढ़कर 2017 में 48.6 प्रतिशत हो गई है. यह इस क्षेत्र का एकमात्र देश है जो 2017 में 36 प्रतिशत से अधिक अंक प्राप्त कर चुका है.

2. ट्यूनीशिया

26 वर्षों के दौरान, ट्यूनीशिया की युवा बेरोजगारी दर 5% से 29.7% से बढ़कर 35.5% तक पहुँच गयी है.

3. जॉर्डन

जॉर्डन में भी बेरोज़गारी दर 30.7 प्रतिशत से बढ़कर 34.0 प्रतिशत हो गया है.

4. मिस्र

मिस्र की जनसंख्या 9 लाख से अधिक तक पहुँच गयी है, देश के युवाओं की बेरोजगारी दर 33.1 प्रतिशत तक बढ़ा है, जो कि बहाद्द चौकाने वाला है.

5. सऊदी अरब

केएसए की युवा बेरोजगारी दर 5.2 प्रतिशत बढ़ी है, वर्तमान में यह 32.2 प्रतिशत है.

6. अल्जीरिया

अल्जीरिया के आंकड़े घटकर 26.8 प्रतिशत हो गए थे, जो 1991 में 39.5 प्रतिशत थे.

7. लेबनान

लेबनान की रेटिंग 2017 में केवल 0.3 प्रतिशत ही बढ़ी है जो अब 21.8 प्रतिशत पर पहुंच गई है.

8. मोरक्को

1991 में मोरक्को की दर 27.9 प्रतिशत से घटकर अब 21.3 प्रतिशत हो गई है.

9. संयुक्त अरब अमीरात (UAE)

संयुक्त अरब अमीरात की बेरोजगारी दर 8.5 प्रतिशत से बढ़कर 11.4 प्रतिशत हो गई है.

 

Previous articleकिंग सलमान और पाकिस्तानी पीएम अब्बासी ने की बातचीत
Next articleसऊदी अरब में फंसा व्यक्ति सुषमा स्वराज से कर रहा है मदद की गुहार