source: Gulf News

मनामा- हेड ऑफ़ द प्रमोशन ऑफ़ वर्च्यु एंड द प्रिवेंशन ऑफ़ वाईस ने कहा की “सऊदी अरब में हाई स्कूल में पढ़ने वाली 41% लडकियां ब्लैकमेल का शिकार हुई हैं.”

शेख अब्दुल रहमान बिन अब्दुल्लाह अल सनाद ने कहा की “ब्लैकमेल मामले में जिन लड़कियों को निशाना बनाया गया है, उनकी उम्र 16 से 30 साल के बीच है.”

उन्होंने कहा की “सभी केस में 85% महिलाएं शिकार हुई हैं, उन्होंने यह भी कहा की “अवैध रिश्ते के खिलाफ हम हमेशा चेतावनी देते रहते हैं, विवाहों और रोजगार के अवसरों को बढ़ावा देने वाली साइटों पर सतर्क रहने की जरुरत है.”

उन्होंने कहा की “इन साइट्स में कुछ लोग बस हमारा इस्तेमाल करते हैं, इसलिए हमें उन व्यक्तिगत विवरणों को भेजने से बचना चाहिए जो उनके खिलाफ इस्तेमाल हो सकते है.

एंटी-ब्लैकमेल यूनिट के आंकड़ों के अनुसार, इन साइट्स द्वारा “74% मामलों में लोगों की मांग महिलाओं से सेक्स होती हैं, जिनमे महिलाओं द्वारा इस मांग को इंकार करने पर उन्हें ब्लैकमेल किया जाता है.”

उन्होंने कहा की “लगभग 99 प्रतिशत मामलों में, ब्लैकमेलर को वह नहीं मिलता है जो वह मांगता है पीड़ित से,” पीड़ितों को ब्लैकमेल करने में औरत व पुरुष दोनों शामिल हैं, कई महिलाओं को खुद महिलाएं ही ब्लैकमेल करती हैं.

गल्फ न्यूज़ के अनुसार, 57 प्रतिशत मामलों में, ब्लैकमेलर्स द्वारा यौन उत्पीडन के लिए मना किये जाने पर पीड़ित को नगदी जुटाने के लिए धमकी दी जाती है, इन धमकियों को दिए जाने के लिए सबसे ज्यादा सोशल मीडिया ऐप का इस्तेमाल किया जाता है.”

न्यूज़ अरेबिया एकमात्र न्यूज़ पोर्टल है जो अरब देशों में रह रहे भारतीयों से सम्बंधित हर एक खबर आप तक पहुंचाता है इसे अधिक बेहतर बनाने के लिए डोनेट करें
डोनेशन देने से पहले इस link पर क्लिक करके पढ़ें Click Here

वर्ल्ड न्यूज़ अरेबिया का यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें :-


आज की पसंदीदा ख़बरें
Loading...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here